bareilly@inext.co.in

BARIELLY: श्री राममूर्ति स्मारक कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी, में फ्राइडे को 18वां दीक्षांत समारोह हुआ, जिसमें बीटेक, बीफार्मा, एमबीए, एमसीए, एम टैक एवं एम फार्मा बरेली, श्री राममूर्ति स्मारक कॉलेज उन्नाव के स्टूडेंट्स को उपाधि एवं प्रशस्ति पत्र दिए गए. दीक्षांत समारोह की अध्यक्षता एकेटीयू प्रो. विनय कुमार पाठक एवं एसआरएमएस ट्रस्ट के प्रबंध न्यासी देवमूर्ति ने की. दीक्षांत समारोह में चीफ गेस्ट सुधीर अग्रवाल रहे.

पेश की गई वार्षिक रिपोर्ट
दीक्षांत समारोह का शुभारंभ सुधीर अग्रवाल, प्रो. विनय कुमार पाठक, चेयरमैन देवमूर्ति एवं ट्रस्ट सेक्रेटरी आदित्य मूर्ति ने दीप प्र”वलन कर किया. इसके बाद संस्थान गीत एवं विश्वविद्यालय कुलगीत हुआ. देवमूर्ति ने अपने स्वागत सम्बोधन में सभी डिग्री पाने वाले स्टूडेंट्स का उत्साहवर्धन किया. इसके साथ ही उन्होंने ट्रस्ट के द्वारा चलाये जा रहे समाजिक कार्यो को संक्षेप में प्रस्तुत किया. डीन एकेडिमिक डॉ. प्रभाकर गुप्ता ने कहा कि शिक्षा एक सतत् प्रक्रिया है. डॉ. प्रभाकर गुप्ता ने श्री राममूर्ति स्मारक ट्रस्ट महाविद्यालयों, की सत्र 2017-18 वार्षिक रिपोर्ट प्रस्तुत की.

डिग्री के साथ ही संस्कार भी मिलता है

सुधीर अग्रवाल ने कहा कि आज का दिन आपकी जीवन यात्रा का महत्वपूर्ण दिन है. आप दृढ़ संकल्प और समपर्ण के साथ अपने एकेडिमिक कार्य अपनायें. प्रो. विनय कुमार पाठक स्टूडेंट्स को दीक्षा देते हुये कहा कि कॉन्वोकेशन का अर्थ केवल डिग्री प्राप्त करना होता है और भारतीय संस्कृति के अनुसार दीक्षांत का अर्थ डिग्री के साथ-साथ संस्कार प्राप्त करना भी होता हैं. उन्होंने सभी स्टूडेंट्स को प्रेरणा देते हुये कहा कि उन्हें नौकरी के पीछे भागना नहीं चाहिए, बल्कि इनोवेटिव और रिर्सच के क्षेत्र में कार्य करके भारत को तकनीकी राष्ट्रवाद बनाने की कोशिश करनी चाहिए.