अपराधियों को गिरफ्तार करने में नाकाम साबित हुई टीम

एक महीने में किसी भी बड़ी घटना का नहीं किया खुलासा

Meerut. परतापुर के दोहरे हत्याकांड में दोनों आरोपियों को पकड़ने में नाकाम साबित हुए क्राइम ब्रांच पर एसएसपी की गाज गिर गई. मंजिल सैनी ने क्राइम ब्रांच को भंग करते हुए इंस्पेक्टर सहित 12 पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर कर दिया है.

जारी किया आदेश

बुधवार दोपहर एसएसपी मंजिल सैनी दहल ने एकाएक आदेश जारी करते हुए जिले की क्राइम ब्रांच को भंग कर दिया. उन्होंने क्राइम ब्रांच के प्रभारी इंस्पेक्टर राजेश वर्मा और दरोगा जयवीर सहित क्राइम ब्रांच में तैनात सभी 12 पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर करने का आदेश जारी किया है. एसएसपी मंजिल सैनी के आदेश के बाद क्राइम ब्रांच में तैनात पुलिसकर्मियों में खलबली मच गई

सामने आया फेल्योर

परतापुर के सोहरखा गांव में गवाह मां-बेटे निछत्तर कौर और बलविंद्र की हत्या के बाद आरोपियों की तलाश में क्राइम ब्रांच पूरी तरह से फेल्योर साबित हुई. वारदात में शामिल 50 हजार का इनामी मुख्य आरोपी विनय उर्फ मांगे दिल्ली पुलिस से सांठगांठ कर जेल चला गया. वहीं, दूसरे 50 हजारी विकास जाट को मंगलवार को मुजफ्फरनगर पुलिस ने मार गिराया. हाथ से छिटकते अपराधियों और अवैध वसूली की शिकायतों के चलते क्राइम ब्रांच पर गाज गिरने की बात कही जा रही है.

क्राइम ब्रांच को भंग कर दिया गया है. इसके साथ इंस्पेक्टर राजेश वर्मा व दरोगा जयवीर को समेत 12 पुलिस कर्मियों को लाइन में भेज दिया गया है.

मंजिल सैनी, एसएसपी