एसटीएफ ने कस्टम अधिकारी को किया गिरफ्तार

सात से आठ लाख रुपये में करता था पेपर लीक

Meerut। दिल्ली के इंदिरा गांधी एयरपोर्ट पर तैनात कस्टम अधिकारी को एसटीएफ ने हाईकोर्ट के स्टेनो पद के प्रतियोगी परीक्षा का पेपर लीक करने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया। उसके पास से कई सॉल्वर गैंग के मोबाइल नंबर समेत अहम दस्तावेज भी मिले हैं। वह यूपी व हरियाणा से अब तक 515 लोगों से रुपये लेकर उनकी सरकारी नौकरी लगवा चुका है।

7 लाख में पेपर आउट

रविवार को पुलिस ने स्ट्रोन कॉलेज में हाईकोर्ट में स्टेनों पद की प्रतियोगी परीक्षा की नकल करते हुए मुजफ्फरनगर के विभोर को दबोच लिया था। उसके मोबाइल में पूरा पेपर मौजूद था। उसने कबूला था कि 7 लाख रुपये लेकर दिल्ली के एक कस्टम अधिकारी ने उसके मोबाइल के व्हाट्सऐप पर सोल्वड पेपर के चारों सेट की आंसर-कडाली थी।

सर्विलांस से गिरफ्तार

एसटीएफ के सीओ ब्रिजेश कुमार ने जब आंसर-की भेजने वाले नंबर को ट्रेस किया गया तो वह दिल्ली में तैनात कस्टम अधिकारी विजय तोमर उर्फ नीटू का निकला। वह मूल रूप से बागपत जिले के बड़ौत कोतवाली क्षेत्र के वाजिदपुर गांव का रहने वाला है। पुलिस ने उसका मोबाइल सर्विलांस पर लेकर उसे मेरठ से गिरफ्तार कर लिया। उसके पास से कुछ अहम दस्तावेज भी बरामद किए गए हैं। एसटीएफ सीओ ब्रिजेश कुमार ने बताया कि वह पहले भी ग्राम पंचायत की परीक्षा में सेंधमारी कर चुका है। उस वक्त वह पकड़ में नहीं आया था। मगर इस बार उसका नंबर सर्विलांस पर लगा था। वह सेटिंग के लिए मेरठ आया तो उसे गिरफ्तार कर लिया गया है।

Posted By: Inextlive