- तीन से पांच बार लोगों के हो चुके हैं चालान

- वाहनों को देख कर पुलिस का भी सिर चकराया

- एसपी ट्रैफिक कर रहे हैं मामलों की जांच

- दो गाडि़यों पर एक ही नम्बर का है मामला

आगरा. शहर में धड़ल्ले से चोरी के वाहन चल रहे हैं और पुलिस को खबर तक नहीं. तीन बार मामले पकड़ में आने के बाद भी पुलिस की तरफ से कोई प्लानिंग नहीं की गई. पहले तो लोग देहात में चोरी के वाहन चलाते थे, लेकिन अब शहर में भी ऐसे वाहन देखे गए हैं. पूर्व में तीन बार सही नम्बरों पर हुए गलत चालान इस बात का उदाहरण हैं.

केस-1

एक के बाद एक फोटो चालान आने से किसान परेशान

नगला कोरई फतेहपुर सीकरी निवासी गया प्रसाद किसान है. उनके पास सफेद रंग की एक्टिवा है जिसका नंबर यूपी 80 डीवी 6072 है. कुछ दिन पहले किसान के पास फोटो चालान पहुंचा. किसान कंफ्यूज हो गए और चालान जमा करा दिया. इसके बाद फिर से चालान पहुंचा, जबकि किसान उस स्थान पर एक्टिवा लेकर गए नहीं थे. उनकी एक्टिवा घर पर खड़ी रहती है. इसी तरह उनके पास एक के बाद एक पांच चालान पहुंच गए.

एसएसपी से की शिकायत

किसान के पास सफेद एक्टिवा है जबकि फोटो में एक्टिवा का कलर ग्रे है. हालांकि उसने चालान जमा करा दिए पर उसकी एक्टिवा के नंबर पर कोई और चोरी की एक्टिवा चला रहा है. 6 फरवरी को पीडि़त ने एसएसपी से शिकायत की थी.

केस-2

एक्टिवा के चार बार फोटो चालान आए घर पर

राम मोहन विहार कॉलोनी, दयालबाग, न्यू आगरा निवासी आशीष कुमार एलआईसी में विकास अधिकारी हैं. 6 महीने पहले उनके पास एक फोटो चालान आया. चालान सिकंदरा में हुआ था जबकि उनका एक्टिवा उस दिन घर पर ही था. आशीष के पास सफेद रंग का एक्टिवा है जबकि चालान में ग्रे कलर का एक्टिवा दिखाई दिया.

एक साथ आए तीन चालान

उस दौरान आशीष ने एसपी ट्रैफिक से बात की. एसपी टै्रफिक ने उसका चालान निरस्त करवा दिया. अब 11 फरवरी को आशीष के पास एक साथ तीन चालान आ गए. चालान अक्टूबर के थे. इस मामले में फिर से एसपी ट्रैफिक से बात की लेकिन चालान निरस्त नहीं हो सके. थाना न्यू आगरा पुलिस से शिकायत की लेकिन पुलिस ने टरका दिया.

घर पर ही रहता है एक्टिवा

आशीष कुमार के मुताबिक उनका एक्टिवा अधिकतर घर पर ही रहता है. एमजी रोड और संजय प्लेस जाने के लिए वह अपनी कार का यूज करते हैं. जिस जगह उनका चालान हुआ, वह वहां पर एक्टिवा से गए ही नहीं थे. 20 फरवरी को पीडि़त ने एसएसपी कार्यालय शिकायत की थी.

केस-3

नम्बर प्लेट पर लिखा है फर्म का नाम, दो बार आए चालान

मलको गली, ताजगंज निवासी वसीम अहमद जूता कारोबारी है. उनके पास काले रंग की एक्टिवा है. उनकी नम्बर प्लेट पर उनकी फर्म का नाम लिखा हुआ है. उनके पास दो चालान आए. इनमें से एक चालान 21 अगस्त 2018 हरीपर्वत का व दूसरा 22 अक्टूबर 2018 भगवान टॉकीज का. दोनों चालान 300 रुपये के थे. चालान देख कर वह चौंक गए. चालान ग्रे कलर की एक्टिवा का था. साथ ही नम्बर प्लेट पर फर्म का नाम नहीं लिखा था. 22 फरवरी को पीडि़त ने एसएसपी कार्यालय पर शिकायत की थी.

पुलिस भी बनी चकर घिन्नी

इस तरह से शहर में चोरी की एक्टिवा चलने का मामला प्रकाश में आया. गाडि़यां शहर में ही चल रही हैं. मुख्य चौराहों पर चल रही हैं, लेकिन पुलिस की नजर में नहीं आ रहीं. फोटो चालान से यह स्पष्ट हुआ. अब भी पुलिस के पास ऐसी गाडि़यों को पकड़ने के लिए कोई प्लान नहीं है. लगातार मामले प्रकाश में आते जा रहे हैं. अब तक ऐसे मामलों की संख्या तीन है.

एसपी ट्रैफिक से करें शिकायत

मामले में एसपी ट्रैफिक प्रशांत कुमार का कहना है कि इस तरह के मामलों की जांच की जा रही है. यदि किसी का इस तरह का चालान आता है तो वह कार्यालय आकर बता सकता है. एसपी ट्रैफिक के मुताबिक चोरी के वाहनों को पकड़ने के लिए प्लानिंग की जा रही है.