- सीबीएसई बोर्ड 10वीं और 12वीं में फेल स्टूडेंट्स को देगा री-एडमिशन का मौका

- फेल छात्र को एडमिशन देने से मना नहीं कर सकेगा अब कोई स्कूल

lucknow@inext.co.in

LUCKNOW : सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन (सीबीएसई) ने हाईस्कूल व इंटरमीडिएट की बोर्ड परीक्षा में फेल होने वाले स्टूडेंट्स को बड़ी राहत दी है. अब बोर्ड एग्जाम में फेल होने वाले स्टूडेंट्स दोबारा रेगुलर क्लास में एडमिशन ले सकेंगे. अभी तक बोर्ड एग्जाम में फेल होने वाले स्टूडेंट्स को रेगुलर एडमिशन नहीं मिलता था. वह सेल्फ स्टडी कर एग्जाम देते थे.

री-एडमिशन देने से मना नहीं कर सकते हैं स्कूल

सीबीएसई की वेबसाइट से मिली जानकारी के अनुसार पहले यह नियम था कि अगर कोई छात्र 10वीं या 12वीं के बोर्ड एग्जाम में फेल हो जाता था तो वह अगले वर्ष बतौर प्राइवेट फॉर्म भरकर ही एग्जाम दे सकता था. इससे जहां स्टूडेंट्स की परीक्षा प्रभावित होती थी, वहीं मार्कशीट पर प्राइवेट होने की जानकारी भी प्रकाशित होती थी. सीबीएसई की ओर से जारी सर्कुलर में कहा गया है कि अब फेल छात्र री-एडमिशन लेकर नियमित छात्र के तौर पर परीक्षा दे सकते हैं. यह नियम कंपार्टमेंटल परीक्षा में फेल स्टूडेंट्स पर भी लागू होगा. री-एडमिशन स्टूडेंट्स उसी स्कूल में ले सकेंगे, जहां से उन्होंने वार्षिक बोर्ड परीक्षा दी है. सभी स्कूलों को निर्देश दिये गये हैं कि वह ऐसे स्टूडेंट्स को अपने संस्थान में बतौर नियमित स्टूडेंट्स के रूप में एडमिशन दें. अब फेल स्टूडेंट्स का एडमिशन लेने से कोई भी स्कूल मना नहीं कर सकता है.

कोट

बोर्ड परीक्षा में फेल हुए स्टूडेंट्स को सीबीएसई ने राहत दी है. छात्र अब प्राइवेट नहीं, बल्कि अपने ही स्कूल में दोबारा नामांकन करवाकर परीक्षा में शामिल हो सकेंगे. बोर्ड ने इस संबंध में स्कूलों को दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं.

डॉ. जावेद आलम खान, सिटी कोऑर्डिनेटर, सीबीएसई