लखनऊ (ब्यूरो)। विश्व हिंदू महासभा के अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष रणजीत बच्चन की हत्या किसी धार्मिक रंजिश या फिर आतंकी साजिश का नतीजा नहीं थी। हत्याकांड की जांच में जुटी टीमें इस बात पर एकमत हो चुकी हैं कि रणजीत बच्चन को उन्हीं के किसी करीबी परिचित ने मौत की नींद सुला दिया। सोमवार को पुलिस टीमों ने रणजीत की पत्नी समेत छह लोगों से लंबी पूछताछ की। इसके अलावा गोरखपुर के एक स्कूल संचालक का भी विवाद सामने आया है, जिससे पूछताछ के लिये गोरखपुर पुलिस की मदद ली जा रही है।

लेनदेन के विवाद की जांच

जांच में जुटी पुलिस टीमों को पता चला है कि मृतक रणजीत बच्चन ने कई लोगों से काम कराने या नौकरी लगवाने के लिये रकम ले रखी थी। कई लोगों का काम या नौकरी न लगवा पाने के बावजूद रणजीत ने उन्हें रुपये वापस नहीं किये। इसे लेकर उनका उन लोगों से विवाद चल रहा था। बताया गया कि गोरखपुर निवासी एक स्कूल संचालक से भी रुपये को लेकर विवाद हो चुका था। स्कूल संचालक ने रकम वापस न मिलने पर उन्हें अंजाम भुगतने की धमकी दी थी। यह जानकारी मिलने के बाद लखनऊ पुलिस ने गोरखपुर पुलिस से उस स्कूल संचालक से पूछताछ करने के लिये मदद मांगी है।

दिनभर चली पूछताछ

पुलिस सूत्रों के मुताबिक, सोमवार को पुलिस टीमों ने रणजीत बच्चन की पत्‍‌नी कालिंदी से कई घंटे तक पूछताछ की। पुलिस ने सनी भारती से भी पूछताछ की। सनी से भी रणजीत का रुपये के लेनदेन को लेकर विवाद हो चुका था। साथ ही अभिषेक पटेल और ज्योति पटेल से भी पुलिस टीमों ने लंबी पूछताछ की। अभिषेक व ज्योति हत्या के एक दिन पहले ही मृतक के घर पहुंचे थे। ज्योति को मृतक रणजीत ने नोएडा में नौकरी दिलाने का आश्वासन दिया था और उससे इसके एवज में पांच लाख रुपये लिये थे। पूछताछ की कड़ी में पुलिस ने शुभम से भी सवाल जवाब किये। शुभम हर रोज रणजीत बच्चन के साथ मॉर्निग वॉक पर जाता था। लेकिन, वारदात वाले दिन वह उनके साथ नहीं गया था।

चैनल व न्यूज पेपर लॉन्चिंग में मौजूद लोगों से भी पूछताछ

रणजीत बच्चन ने शनिवार को ओसीआर विधायक निवास स्थित अपने आवास से एक न्यूज पेपर, मैगजीन और चैनल की लॉन्चिंग की लेकिन, तीनों के बाजार में आने से पहले ही रणजीत की हत्या कर दी गई। रणजीत ने इस लॉन्चिंग को हिंदुत्व को बढ़ावा देने से जोड़ा था। इसके लिए कई ¨हदू संगठनों के लोग यहां पहुंचे थे। लॉन्चिंग के लिए ही हवन-पूजन समेत अन्य कार्यक्रम रखे गए थे। इस दौरान कुछ लोगों ने रणजीत के साथ सेल्फी भी ली थी। इसी आधार पर कार्यक्रम में शामिल सभी लोगों से पूछताछ की जा रही है। लॉन्चिंग कार्यक्रम के अगले ही दिन रणजीत बच्चन की हत्या होने की दिशा में भी पुलिस तफ्तीश कर रही है।

फोटो से संदिग्धों की पहचान

शनिवार को रणजीत के आवास में हुए लॉन्चिंग कार्यक्रम में शामिल लोगों की तस्वीरें और वीडियो फुटेज पुलिस ने अपने कब्जे में लिए हैं। फोटो में शामिल लोगों की सीसीटीवी में कैद हुए संदिग्ध हमलावरों से मिलान कराया जा रहा है।

यह थी घटना

विश्व हिंदू महासभा के अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष रणजीत बच्चन की रविवार सुबह हजरतगंज स्थित ग्लोब पार्क के सामने अज्ञात हमलावर ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। हमलावर शॉल ओढ़े हुए था और उनका पीछा हजरतगंज चौराहे से कर रहा था। पुलिस ने पूरे रूट में लगे विभिन्न सीसीटीवी कैमरों की पड़ताल के बाद संदिग्ध हमलावर का फोटो जारी किया था और उसकी सूचना देने वाले को 50 हजार रुपये का इनाम भी देने की घोषणा की थी।

lucknow@inext.co.in

Posted By: Lucknow Desk

Crime News inextlive from Crime News Desk