- हॉस्पिटल मैनेजर का कार्य मिला संतोषजनक, इमरजेंसी में मिली गंदगी

- सीएमएस से जताई नाराजगी, दिए दिशा-निर्देश

बरेली : सीएम योगी आदित्यनाथ के औचक निरीक्षण की सुगबुगाहट से स्वास्थ्य विभाग में खलबली मची हुई है. शासन से प्रशासन तक हर कोई अपनी कमियों को दूर करने में लगा हुआ है. ऐसा ही मंजर मंडे को जिला अस्पताल में देखने को मिला. शासन की ओर से एनएबीएच यानि नेशनल एक्रीडिएशन बोर्ड फॉर हॉस्पिटल एंड केयर की तीन सदस्यीय टीम ने मंडे को जिला अस्पताल का औचक निरीक्षण किया. इस दौरान सबसे पहले अस्पताल के रिकॉर्ड चेक किए. फिर वार्ड में मरीजों को मिलने वाली सहूलियत की जानकारी ली गई. इमरजेंसी में मरीजों की भीड़ और गंदगी मिलने पर ईएमओ को कड़ी फटकार लगाई गई. वहीं हॉस्पिटल मैनेजर को मेंटिनेंस और रुके हुए प्रोजेक्ट पर जल्द काम शुरू कराने का आदेश जारी किया.

रिकॉर्ड मेंटेन करने में जुटा स्टाफ

टीम में शामिल एनएबीएच के डॉ. विभोर जैन सबसे पहले सीएमएस डॉ. टीएस आर्या के ऑफिस पहुंचे. इसके बाद उन्होंने हॉस्पिटल में नये वार्डो का जायजा लिया. यहां से वह चाइल्ड वार्ड पहुंचे. उनके पंहुचने से पहले ही ड्यूटी पर तैनात स्टाफ रिकॉर्ड ठीक करने में मशगूल दिखाई दिया. जिस पर उनको कड़ी फटकार भी लगाई गई.

मैनेजर को दिए दिशा निर्देश

हॉस्पिटल के रिकॉर्ड रूम में जाकर उन्होंने हॉस्पिटल में वर्ष 2018-19 में हुए निर्माण कार्यो और आय-व्यय का का ब्योरा चेक किया. इसके साथ ही उन्होंने मेडिसिन स्टोर में जाकर दवाओं की उपलब्धता देखी. उन्होंने रिकॉर्ड चेक करने के बाद हॉस्पिटल मैनेजर को दवाओं के रख-रखाव ठीक रखने और जरूरी दवाओं की उपलब्धता बनाए रखने के निर्देश दिए. साथ ही हॉस्पिटल के वार्डो में सफाई व्यवस्था पर ध्यान देने को कहा.

आज महिला अस्पताल का निरीक्षण

डा. विभोर जैन ने बताया कि ट्यूजडे को जिला महिला अस्पताल का निरीक्षण किया जाएगा. इस दौरान किसी भी प्रकार की वित्तीय अनियमितता या क्वालिटी मैनेजमेंट में कमी पाई जाती है तो संबंधित के खिलाफ रिपोर्ट प्रमुख सचिव को भेजी जाएगी.