- महिला को डर न पहुंच जाए तीसरा नोटिस

देहरादून.

दून की एक महिला को तीन तलाक का डर रात-दिन सता रहा है. महिला इस कदर टेंशन में है कि एसएसपी ऑफिस से लेकर निर्भया प्रकोष्ठ तक शिकायत लेकर पहुंच चुकी है और गायब पति को किसी भी तरह ढूंढकर सामने लाने की मांग कर रही है. बावजूद इसके महिला की अब तक सुनवाई नहीं हो पाई है.

--

पति ने छोड़ा था मायके

महिला का कहना है कि ये उसकी दूसरी शादी है. पहली शादी की उसकी एक बेटी भी है. बताया कि पति ने उसको कुछ दिन मायके में रहने को बोला और वहीं छोड़ दिया. इसके बाद से उसे लेने नहीं आया. पत्‍‌नी ने जब पति की खोजबीन शुरू की तो वो उस घर को छोड़कर जा चुका था. आस-पड़ोस में जानकारी लेने के बाद भी पति के बारे में कुछ पता नहीं चल पाया कि वो कहां गया है.

--

दो महीने में दो नोटिस

यही नहीं पति दो महीने से भले ही गायब हो लेकिन वो दो महीने में पत्‍‌नी को तलाक के दो नोटिस भिजवा चुका है. ऐसे में पत्‍‌नी घबराई हुई कि कहीं तीसरा नोटिस मिलते ही तलाक न हो जाए. परेशान पत्‍‌नी तीसरा नोटिस मिलने से पहले ही मामले पर कार्रवाई चाहती है. यही वजह है कि वह दर-दर भटक रही है.

--

दरअसल मुस्लिम संप्रदाय में दो तरह के तलाक होते है. तलाक उल बिद्दत में तीन बार मुंह से तलाक बोलने पर तलाक मान लिया जाता है तो वहीं तलाक उल सुन्नत में तीन बार नोटिस भेजने पर तलाक मान लिया जाता है. महिला हमारे पास आई थी, हम उसकी हर संभव मदद कर रहे हैं.

- फिरदौस, एडवोकेट, निर्भया प्रकोष्ठ