ट्रैफिक पुलिस ने बनाया प्लान, पकड़े जाने पर अभिभावक को भेजेंगे मैसेज

अभिभावक का गलत नंबर दिया तो और बढ़ जाएगी मुसीबत

mukesh.chaturvedi@inext.co.in

PRAYAGRAJ: शहर में ड्रिंक करके गाड़ी चलाना अब महंगा पड़ने वाला है. पकड़े जाने पर ट्रैफिक पुलिस कार्रवाई के साथ गार्जियन का मोबाइल नंबर भी पूछेगी. बताए गए नंबर पर यातयात पुलिस द्वारा मैसेज भेजा जाएगा. मैसेज में उन्हें बताया जाएगा कि आपका लाडला ड्रिंक करके गाड़ी चला रहा था. आप इसे खबरदार कर लें, अन्यथा वह हादसे का शिकार हो सकता है या उसके द्वारा किए गए एक्सीडेंट में किसी की जान जा सकती है. यही नहीं परिजनों भी को उठाए गए कदम की लिखित जानकारी विभाग को देनी होगी.

जल्द शुरू होगी कार्रवाई

शहर में बढ़ रहे एक्सीडेंट में कमी लाने के लिए ई-चालान के तहत ट्रैफिक पुलिस एक नई व्यवस्था लागू करने जा रही है. शहर के चौराहों पर खासकर शाम के वक्त की जाने वाली रूटीन चेकिंग में ड्रिंक कर गाड़ी चलाने वालों की पड़ताल की जाएगी. जांच में शराब पीकर गाड़ी चलाते हुए पकड़े गए लोगों के खिलाफ विभागीय कार्यवाई के साथ अभिभावकों के नंबर पूछे जाएंगे. फिर उन्हें मैसेज भेजकर बताया जाएगा कि आप का लाडला शराब पीकर गाड़ी चलाते हुए पकड़ा गया है. क्या आपको इसकी खबर है. यदि नहीं तो जान लें और उसे ऐसा करने से मना करें. मैसेज में यह भी बताया जाएगा कि ट्रैफिक पुलिस ने ड्रिंक कर गाड़ी चलाने के जुर्म में क्या कार्रवाई की है.

बाक्स

वीआईपी प्रोग्राम के बाद मीटिंग

भेजे गए मैसेज पर अभिभावकों द्वारा दी गई हिदायत या उठाए गए कदम की लिखित सूचना ट्रैफिक पुलिस को देनी पड़ेगी. ऐसे में परिजनों से चोरी कर शराब पीने के बाद फर्राटा भरने वालों की पोल खुलनी तय है. इस व्यवस्था को अमल में लाने से पहले अधिकारी एक विभागीय मीटिंग करेंगे. मीटिंग की डेट कुंभ मेला व शहर में वीआईपी प्रोग्राम समाप्त होने के बाद फिक्स की जाएगी.

बाक्स

युवाओं पर होगी पैनी नजर

- ई-चालान के तहत बनाई गई इस व्यवस्था में ट्रैफिक पुलिस की नजर युवाओं पर अधिक रहेगी

- शाम के वक्त चौराहों पर विशेष चेकिंग अभियान चलाया जाएगा

- ड्रिंक कर गाड़ी चलाते हुए पकड़े जाने पर ट्रैफिक पुलिस बगैर कुछ कहे अभिभावकों का मोबाइल नंबर पूछेगी

- अभिभावकों का नंबर न देने पर या गलत देने पर पुलिस झांसा देने का केस भी दर्ज करा सकती है

- शंका होने पर ट्रैफिक पुलिस तत्काल उस नंबर पर बात कर नंबर कंफर्म भी कर सकती है

अभी प्लान पर काम चल रहा है. कुंभ मेला को लेकर अभी व्यवस्तता चल रही है. मेला खत्म होने के बाद इसे अमली जामा पहनाया जाएगा. ताकि शहर में शराब पीकर गाड़ी चलाने वालों की संख्या में कमी आए.

कुलदीप सिंह, एसपी ट्रैफिक

ई-चालान के तहत अधिकारियों ने ऐसा प्लान तैयार किया है. कुंभ मेला से लेकर शहर तक लगे वीआईपी प्रोग्राम के बाद इस व्यवस्था को अमल में लाने के लिए मीटिंग की जाएगी.

राकेश कुमार सिंह, ट्रैफिक इंचार्ज