- जेईई मेंस 2015 के लिए काउंटडाउन हुआ स्टार्ट

- करीब दस लाख कैंडिडेट्स एग्जाम में होंगे अपीयर

dehradun@inext.co.in

DEHRADUN : इंजीनियरिंग का महासंग्राम शुरू होने को है. ज्वॉइंट एंट्रेंस एग्जामिनेशन (जेईई) मेंस ख्0क्भ् के लिए काउंटडाउन स्टार्ट हो चुका है. क्फ् दिन बाद ऑल इंडिया लेवल पर करीब दस लाख कैंडिडेट्स एग्जाम में अपीयर होंगे. लेकिन इन लाखों कैंडिडेट्स में से करीब पंद्रह परसेंट को ही एडवांस के लिए चुना जाएगा. ऐसे में चंद दिनों में सिस्टमैटिक तैयारी बेड़ा पार कर सकती थी.

खुद को रखें मेंटली फिट

जेईई मेंस ऑफलाइन एग्जाम ब् अप्रैल व ऑनलाइन एग्जाम क्0 व क्क् अप्रैल को ऑर्गनाइज होगा. पेपर पेन मोड यानि ऑफलाइन एग्जाम के लिए अब केवल क्फ् दिन बचे हैं. ऐसे में जरूरी है कि खुद को हर मेंटली फिट और अपडेट रखें. एग्जाम को लेकर समझदारी इसी में है कि सब्जेक्ट वाइज टाइम को मैनेज करते हुए तैयारी करें. वीआर क्लासेज के एमडी वैभव राय ने बताया कि स्टूडेंट्स एग्जाम के प्रेशर में कई बार गलत जवाब दे देते हैं. कई बार टाइम बाउंडेशन समस्या पैदा करता है, इसका सबसे बेहतर उपाय है कि आप पहले से इसके लिए तैयार रहें. टाइम को कैसे मैनेज करना है, एग्जाम के दौरान किस तरह के सवाल आने वाले हैं. इन सब को लेकर पहले से प्रिपरेशन होनी बेहद जरूरी है. कैंडिडेट्स अगर अपनी स्ट्डीज को टाइम से मैनेज कर लें तो क्वॉलिफाई करना मुश्किल नहीं होगा.

-----------------

सब्जेक्ट के इंपॉर्टेट टॉपिक्स

कैमिस्ट्री

बेसिक कॉन्सेप्ट्स ऑफ केमिस्ट्री, पीरियोडिक प्रॉपर्टीज, केमिकल बॉन्डिंग, इक्विलिबिरियम, आईसोमेरिज्म व जनरल ऑर्गेनिक कैमिस्ट्री.

फिजिक्स

इलेक्ट्रोस्टेटिक्स, ईएमआई, मैग्नेटिज्म, वेव्स व मैकेनिक्स.

मैथेमैटिक्स

कैल्कुलस, ट्रिग्नोमेट्री, एल्जेब्रा व कॉर्डिनेट ज्योमेट्री.

------------------

ऐसे मिलेगी सफलता

- अगले क्फ् दिनों को सब्जेक्ट वाइज डिवाइड करें.

- दिन के क्ख् घंटों में चार घंटे एक सब्जेक्ट को डेडिकेट करें.

- इंपॉर्टेट टॉपिक्स को बोर्ड एग्जाम नोट्स से रिवाइज कर लें.

- एग्जाम से पहले मॉक टेस्ट पेपर जरूर करें. ताकि सब्जेक्ट्स से जुड़े सवालों का ज्ञान हो सके.

- क्वेश्चन सॉल्व करने से पहले उसे पूरी तरह से पढ़ कर समझ लें.

- कॉन्सेप्टचुअल क्वेश्चंस को पहले और बाद में कैल्कुलेशन के सवालों में उलझें.

- क्वेश्चन सॉल्व करते ही ओएमआर शीट फिल करने की प्रैक्टिस पहले से रखें.

- आखिरी दिनों में जो पहले से पढ़ा है उसी को बेहतर तैयार करें.

- नए सब्जेक्ट्स या टॉपिक्स को लेकर न बैठें.

- खान-पान का ख्याल रखें.

- आत्मविश्वास को मजबूत रखे.