- 12 फरवरी तक मय ब्याज पुराना भुगतान देने की दी चेतावनी

- अन्नदाता की ताकत मिल मालिक और सरकार न नापे, वरना बजा देंगे ईट से ईट

मवाना : करोड़ों रुपये के बकाया भुगतान की मांग को लेकर चल रहे गन्ना समिति में धरने को उस समय संजीवनी मिल गई, जब सोमवार दोपहर सरधना विधायक संगीत सोम पहुंचे व उन्होंने किसानों को बकाया भुगतान दिलाने को कदमताल मिलाई. सोम के संबोधन ने किसानों में जोश भर दिया. कहा कि अन्नदाता ही देश की ताकत है. इनकी ताकत को न तो मिल मालिक और ही सरकार नापने का काम करे, वरना ईट से ईट बजा दी जाएगी. बकाया भुगतान मय ब्याज के 12 फरवरी तक कराने की चेतावनी दी गई. वरना इसके परिणाम भुगतान के लिए तैयार रहें.

धरने की मजबूरी

27वें दिन धरने पर पहुंचे भाजपा नेता सरधना विधायक संगीत सोम ने कहा कि इससे ज्यादा शर्म की बात क्या हो सकती है कि किसानों को अपनी फसल के बकाया भुगतान के लिए क्रमिक अनशन व धरना देने जैसा रास्ता अपनाना पड़ा. एक-एक पाई के लिए परेशान किसान आज अनी बेटियों की शादी व बच्चों की फीस तक के लिए पैसा नहीं है.

किसानों का उत्पीड़न

उन्होंने कहा कि यदि किसान पर कर्ज होता है तो उसे हवालात में डाल दिया जाता है और उसकी जमीन तक कुर्क करने में परहेज नहीं किया जाता. तीन हजार रुपये के कर्जदार किसान को जेल की हवा खिलाई जाती है, मगर एक करोड़ के कर्जदार मिल मालिक को प्रदेश सरकार ने दामाद बनाकर रखा है.

मुलायम पर निशाना

मुलायम सिंह के जन्मदिन पर करोड़ों रुपये खर्च हो सकते हैं, लेकिन किसान को उसके हक की कमाई नहीं दी सकती. उन्होंने भुगतान को 12 फरवरी तक का समय मिल प्रबंधन को दिया है और तब तक धरना जारी रहने की बात कही. पूर्व विधायक गोपाल काली ने कहा कि संगीत सोम के आने से हम फौलादी हो गए हैं. धरना भुगतान न होने तक समाप्त नहीं होगा. विजयपाल सिंह बिराना, संघर्ष समिति के अध्यक्ष मलखान सिंह, शिवकुमार, रामपाल शर्मा, गौरव गुर्जर, निपुण चौहान, शिवदत्त शर्मा, राजकुमार, आदेश प्रधान, रतन सिंह समेत सैकड़ों किसान मौजूद रहे.