शटर तोड़ दुकान की साफ

विक्रम वरमानी पुत्र विजय वरमानी निवासी डिसपेंसरी वाली गली निकट आबूलेन चौराहा की दक्ष कम्युनिकेशन के नाम से स्मार्ट फोन कैफे है. रात करीब साढ़े नौ बजे विक्रम कैफे बंद कर घर गए थे. रात में चोरों ने पहले सेंटल लाक में राड फंसाकर बीच का ताला तोड़ दिया, इसके बाद साइड के ताले तोड़कर चोर अंदर घुस गए और दुकान को पूरी तरह से साफ कर दिया. सुबह दस बजे विक्रम कैफे खोलने पहुंचे तो चोरी का पता चला. चोरी की सूचना पर एसएसपी सहित तमाम अधिकारी मौके पर पहुंचे और घटना की जांच की.

स्मार्ट फोन पर थी नजर  

कैफे में काफी महंगे स्मार्ट फोन बिक्री के लिए रखे थे. चोरों ने महंगे स्मार्ट फोन को अपना निशाना बनाया. चोर मोबाइल फोन के डिब्बे और उसमें रखी कुछ बैट्री ही लेकर गए है जबकि सभी मोबाइल के चार्जर को छोड़कर चले गए. साथ ही कैफे के ऊपर बने काउंटर पर तीस टैबलेट, दस लैपटाप भी चोर चोरी कर ले गए. उधर, चोरों द्वारा मोबाइल के डिब्बे से सिर्फ फोन को ही चोरी करना घटनास्थल पर चर्चा का विषय बना रहा. डिब्बे और चार्जर क्यों नहीं ले गए इस पर सब हैरान थे.

सर्विलांस पर आइएमईआइ नंबर

चोरों तक पहुंचने के लिए पुलिस ने चोरी गए चालिस स्मार्ट फोन को सर्विलांस पर लगा दिया है. 60 नंबरों की सूची मालिक विक्रम द्वारा शनिवार को दी जाएगी. इसके बाद अन्य नंबर भी सर्विलांस पर लगा दिए जाएंगे.

बंद थे सीसीटीवी कैमरे

रात को दुकान बंद करने से पहले विक्रम सीसीटीवी कैमरे बंद करके गए थे. इसलिए कोई फुटेज नहीं बन सकी. कैमरे बंद रखने के बारे में पीडि़त कैफे मालिक ने बताया कि शार्ट सर्किट होने के डर से कैमरे रात में बंद कर दिए थे.

क्या है खाली डिब्बों का सच

मोबाइल कैफे में चोरी के बाद मिले स्मार्ट फोन के खाली डिब्बों ने कई सवाल भी खड़े कर दिए हैं. आखिर चोर सिर्फ मोबाइल ही चोरी कर क्यों लेकर गए. कुछ फोन की ही बदमाश बैट्री छोड़कर गए है जबकि अधिकत्तर फोन की बैट्री ले गए. इतना ही नहीं चार्जर को चोर क्यों छोड़ गए. इसके अलावा मालिक ने सौ मोबाइल चोरी होना बताया है, जबकि मौके पर गिनती के ही खाली डिब्बे में मिले. पुलिस ने खाली डिब्बों को अपनी जांच में शामिल किया है.

गश्त नहीं करती पुलिस

सर्दी में रात्रि गश्त के लिए पुलिस को सख्त निर्देश है. लेकिन गश्त की पोल लगातार सिटी में हो रही वारदात खोल रही हैं. गुरूवार की रात हुई चोरी ने फिर से गश्त पर सवाल खड़े किए हैं. चोरों ने पहले आराम से कैफे  के कई तालों को तोड़ा. इसके बाद शटर को भी उखाडा और चोर कैफे से माल समेट कर ले गए. घटना को अंजाम देने के लिए चोरों को कई घंटे का समय भी लगा. लेकिन गश्ती पुलिस को इसकी भनक तक नहीं लग सकी. ऐसे में रात में गश्त पर तैनात पुलिस कर्मी कहां थे.

व्यापारियों में आक्रोश

चोरी की घटना को लेकर व्यापारियों में आक्रोश है. घटना की जानकारी शहर के मोबाइल व्यापारियों को लगी तो वे घटनास्थल पर पहुंचे. आबूलेन स्थित सरदार जी फोंस के स्वामी राजबीर सिंह और गंगा प्लाजा स्थित विक्की टेलीकाम के मालिक विक्की समेत तमाम व्यापारी मौके पर पहुंचे और विरोध जताया. साथ ही शीघ्र घटना के खुलासे की मांग की.

वर्जन

चोरी गए चालीस मोबाइल आइएमइआइ नंबरों की हमें सूची मिली है, जिनको सर्विलांस पर लगा दिया है. पुलिस चोरों की तलाश में जुटी हुई है.

पूनम चौधरी, एएसपी