दिल्ली रोड, रूड़की रोड और मवाना रोड पर नहीं होगी वसूली

ठेकेदार ने भी दी कोर्ट की अवमानना की धमकी

Meerut। दिल्ली रोड पर कैंट बोर्ड की एंट्री फीस वसूली बुधवार रात 12 बजे से बंद हो जाएगी। दिल्ली रोड के साथ मवाना रोड और रुड़की रोड पर भी वसूली नहीं होगी। बुधवार को कैंट बोर्ड की विशेष मीटिंग में इन तीनों प्वाइंट्स पर निर्णय लिया गया। साथ ही ठेकों को निरस्त कर दिया गया।

हो रहा था विरोध

दरअसल, इस एंट्री फीस वसूली को लेकर शहर के व्यापारी और ट्रांसपोर्टर्स समेत ऑटो रिक्शा संचालकों में रोष व्याप्त था। इस मामले में बुधवार को भी कैंट बोर्ड कार्यालय पर व्यापारियों ने जमकर प्रदर्शन किया। हालांकि देर शाम निर्णय आने के बाद सभी व्यापारियों और ट्रांसपोर्टर्स ने खुशी जाहिर की।

सर्वसम्मति से निर्णय

बुधवार को आयोजित विशेष बोर्ड बैठक में सांसद राजेंद्र अग्रवाल समेत विधायक सत्य प्रकाश अग्रवाल भी मौजूद रहे। इस दौरान बोर्ड में सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि तीन स्थानों पर कलेक्शन व्यवस्था को निरस्त किया जाए। बैठक में टोल ठेकेदार केपी सिंह को भी बुलाया गया था, लेकिन वह नहीं पहुंचा। बोर्ड अध्यक्ष द्वारा बोर्ड के प्रशासनिक सदस्य एडीएम सिटी को भी प्रशासन की ओर से इस केस में पैरवी करने को कहा गया क्योंकि लॉ एंड ऑर्डर को लेकर डीएम की तरफ से भी इस ठेके के प्वाइंट्स को लेकर विरोध दर्ज कराया गया है। एडीएम सिटी अजय तिवारी ने भी कहा कि यदि कैंट बोर्ड का ठेकेदार कलेक्शन प्वाइंट बंद नहीं करता तो जिला प्रशासन बलपूर्वक इन स्थानों पर कलेक्शन प्वाइंट को बंद करने में कैंट बोर्ड प्रशासन का सहयोग करेगा।

ठेका निरस्त करने का अधिकार

बैठक में उपाध्यक्ष विपिन सोढ़ी ने बोर्ड को कलेक्शन प्वाइंट के संबंध में बताया किबोर्ड के पास ठेके को कभी भी खत्म करने का अधिकार है। इतना ही नहीं फाइनेंस कमेटी की बैठक में सदस्य को बताया गया था कि ठेकेदार 11 में से आठ प्वाइंट पर टोल वसूली कर रहा है। इसके लिए एक लाख पच्चीस हजार रुपये प्रतिदिन दिए जाने पर भी सहमति बन थी। मगर फिर भी ठेकेदार द्वारा कोर्ट का रास्ता चुना गया। अब कोर्ट में भी सही तरीके से इस मामले की पैरवी की जाएगी। बैठक खत्म होते ही बाहर खड़े व्यापार संघ के पदाधिकारियों और बीजेपी कार्यकर्ताओं ने सांसद विधायक और उपाध्यक्ष समेत सभी सदस्यों को धन्यवाद देते हुए नारे लगाकर खुशी जाहिर की।

'किराया ज्यादा न बढ़ाया जाए'

मंगलवार को बोर्ड बैठक में कैट बोर्ड द्वारा संपत्तियों का किराया बढ़ाए जाने के निर्णय पर सांसद राजेंद्र अग्रवाल ने आपत्ति जाहिर करते हुए सलाह दी कि जनता के हित में किराया ज्यादा न बढ़ाया जाए। इस पर बीना वाधवा ने भी सदन को बताया कि किराया निर्धारण पर बोर्ड में एक पॉलिसी पहले भी निर्धारित की जा चुकी है। उन्होंने सीईओ से उस पॉलिसी का रिव्यू कर लागू करने का आग्रह किया। इस पर उपाध्यक्ष विपिन सोढ़ी ने कहा कि यदि कोई पॉलिसी पूर्व में बन चुकी है तो उसे भी वर्तमान बोर्ड के सामने लाया जाना चाहिए।

रेलवे से वसूले सर्विस चार्ज

बैठक में पूर्व उपाध्यक्ष बीना वाधवा ने रेलवे पर बकाया कैंट बोर्ड के सर्विस चार्ज का मुद्दा उठाते हुए उस पर सांसद व विधायक से भी सहयोग करने का आग्रह किया। रेलवे स्टेशन कैंट एरिया में है लेकिन रेलवे द्वारा कैंट का मेंटिनेंस व अन्य चार्ज नहीं दिया जा रहा है। इस पर सांसद राजेंद्र अग्रवाल ने कहा इस मुद्दे पर सहयोग किया जाएगा। बोर्ड बैठक में ब्रिगेडियर अनमोल सूद, सीईओ प्रसाद चव्हाण, एडीएम सिटी अजय कुमार तिवारी, सांसद राजेंद्र अग्रवाल, विधायक सत्य प्रकाश अग्रवाल, उपाध्यक्ष विपिन सोढ़ी, बीना वाधवा और कैंट बोर्ड के अन्य सभासद भी मौजूद रहे।

Posted By: Inextlive

inext-banner
inext-banner