-वन विभाग की टीम ने चुरई दलपतपुर गांव पहुंचकर देखे पग चिह्न

>

BAREILLY :

रामगंगा नदी के किनारे गांव ठिरिया बुजुर्ग और मोहम्मद गंज के बाद तेंदुआ ने संडे रात मीरगंज के गांव चुरई दलपतपुर में दस्तक दी है. 15 किलोमीटर दूर चुरई दलपतपुर के जंगल में तेंदुआ ने एक कुत्ते को निवाला बना लिया. संडे सुबह ग्रामीण खेतों की तरफ गए लेकिन तेंदुआ नजर नहीं आया.

वन विभाग की टीम पहुंची गांव

चुरई दलपतपुर निवासी अली बहादुर आम के बाग की रखवाली डेली की तरह करने के लिए गए थे. बाग में देखा तो कुत्ता मरा हुआ पड़ा था. कुत्ते को मरा देख सूचना ग्रामीणों की दी गई तो सैकड़ों ग्रामीण मौके पर पहुंचे और वन विभाग को जानकारी दी. वन विभाग के एसडीओ बीएन सिंह टीम के साथ मीरगंज टाउन से सटे चुरई दलपतपुर गांव पहुंचे. उन्होंने घटना स्थल पर पहुंच कर पग चिह्न देखे. वन विभाग की टीम ने तेंदुआ की मौजूदगी बताते हुए गांव वालों को अलर्ट रहने को कहा है. वन विभाग की टीम के अलर्ट के बाद अब ग्रामीणों में दहशत फैल गई है.

पिंजड़े के पास नहीं दिखे पग चिह्न

वहीं वन विभाग टीम ने फिर रामगंगा नदी के खादर क्षेत्र के श्यामपुर गांव में पहुंचकर वहां लगाए गए ¨पजड़े की मौजूदा स्थिति देखी. ¨पजड़े में कैद सुअर को रोजाना की तरह एक मेहमान की तरह खिलाया पिलाया. जंगल में काम्बिंग की, लेकिन पिंजड़े के आसपास ताजा पग चिह्न नहीं दिखे. रेंजर मीरगंज अनिल कुमार मिश्रा ने बताया कि हो सकता है तेंदुआ रामगंगा नदी खादर क्षेत्र से भागकर इस क्षेत्र में आ गया है, ग्रामीण अलर्ट रहें, खेतों पर अकेले न जाएं.