परीक्षा केन्द्रों पर तैनात होगी लेडीज पुलिस, उम्रदराज प्रतियोगी भी नहीं बचेंगे

इस बार लोक सेवा आयोग की परीक्षाओं में नहीं बर्दाश्त की जाएगी तुनकमिजाजी

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: उत्तर प्रदेश पब्लिक सर्विस कमीशन (यूपीपीएससी) की परीक्षाओं में केन्द्रों पर चेकिंग के पुख्ता बंदोबस्त कर पाना हमेशा से मुश्किल काम रहा है. इसके पीछे बड़ा कारण आयोग की परीक्षाओं में अधिक उम्र के अभ्यर्थियों का शामिल होना है. उनके आगे केन्द्रों पर तैनात पुलिसकर्मी बेबस नजर आते हैं. पुलिसकर्मी थोड़ा सी सख्ती दिखाते हैं तो उम्रदराज अभ्यर्थी हंगामा कर देते हैं. यह समस्या अमूमन आउटर एरियाज में बनने वाले परीक्षा केन्द्रों पर देखने को मिलती है.

चेकिंग सिस्टम करेंगे स्ट्रांग

परीक्षा केन्द्रों पर चेकिंग की व्यवस्था उस समय पूरी तरह फेल नजर आती है, जब तुनकमिजाज महिला अभ्यर्थी भी इसमें शामिल हो जाती हैं. इसका फायदा बाकी परीक्षार्थी भी उठाते हैं. अब आयोग ने चेकिंग सिस्टम स्ट्रांग बनाने का निर्णय लिया है. तबादले से पहले ही आयोग के पूर्व सचिव अटल कुमार राय इस बावत आदेश जारी कर गये हैं.

अफसरों से होगी बात

अब यह तय माना जा रहा है कि आयोग द्वारा बनाये गये परीक्षा केन्द्रों पर परीक्षार्थियों की मनमर्जी नहीं चलेगी. वे महिला अभ्यर्थी हों या पुरुष. सभी को चेकिंग के बाद ही इंट्री मिलेगी. केन्द्रों पर महिला और पुरूष पुलिसकर्मियों की व्यवस्था अलग अलग की जायेगी. इसके लिये जिला प्रशासन और पुलिस को परीक्षा के आयोजन के काफी पहले पत्र लिखा जायेगा. पीसीएस जैसे बड़े एग्जाम में जनरल कैटेगरी में 21 से 40 वर्ष और ओबीसी, एससी व एसटी वर्ग के 21 से 45 वर्ष के परीक्षार्थी प्रतिभाग करते हैं.