आगरा (ब्यूरो)। यह गैैंग धोखाधड़ी कर बेरोजगारों को अपना निशाना बनाता था। पुलिस गिरफ्त में आए आरोपी कौशलपुर बाईपास रोड पर सेकेंड फ्लोर, वर्मा कॉम्पलेक्स में अपना कार्यालय चलाते थे। वह बेरोजगार युवाओं को मर्चेंट नेवी के नाम पर नौकरी दिलाने का झांसा देते थे। पुलिस के मुताबिक, ठगी करने वाले जुल्फिकार अहमद पुत्र गुलाम अहमद (प्रयागराज), लोकेश पुत्र दिनेश कुमार, दिनेश कुमार पुत्र विजय पाल कृष्ण विहार थाना क्वार्सी अलीगढ़ को गिरफ्तार किया गया है।

वसूलते थे मोटी रकम

आरोपी जुल्फिकार ने बताया कि वह मर्चेंट नेवी में नौकरी दिलवाने के नाम पर हर स्टूडेंट्स से करीब दो लाख रुपए वसूलते थे। इसके साथ ही विदेश जाने के नाम पर अलग से चार्ज लिया जाता था। पिछले सात साल से बकायदा एक इंस्टीट्यूट खोलकर यह काम कर रहे थे। एक बैच में 40 स्टूडेंट्स को ट्रेनिंग के नाम पर सिलेक्ट किया जाता था, जिसमें कुछ ही लोगों को विदेश जाने का मौका दिए जाने की बात कही जाती थी।

विदेश में बना देते सफाईकर्मी

न्यू आगरा थाना शिकायत लेकर पहुंचे स्टूडेंट्स योगेश और आयुष ने बताया कि मर्चेंट नेवी के नाम पर जुल्फिकार और उसके साथी विदेश में नौकरी की इच्छा रखने वाले लोगों को गुमराह करने का काम कर रहे हैैं। जो युवा इनके जरिए विदेश गए हैैं, सफाई की नौकरी मिली है। पीड़ितों ने अपने परिजनों को बताया है कि उन्हें कतर, दुबई, सिंगापुर में नौकरी दिलाने का झांसा दिया गया था। बाद में, विदेश में तीन साल के लिए सफाई कार्य करने के लिए मजबूर होना पड़ता था। पीड़ित परिवारों ने पुलिस से शिकायत की है।

जब्त किए फर्जी दस्तावेज

पुलिस ने कौशलपुर और सूर्य नगर स्थित आरोपितों के कार्यालयों से फर्जी दस्तावेज बरामद किए हैं। फ्राइडे सुबह करीब ग्यारह बजे प्रभारी इंस्पेक्टर उमेश त्रिपाठी, सबइंस्पेक्टर योगेश कुमार चौकी प्रभारी दीवानी, मोहित सिंह चौकी प्रभारी बृज विहार ने छापेमारी कर फर्जी दस्तावेज, पेमेंट की रसीदें बरामद की हैैं। ठगी के लिए आफस्योर नाम से कंपनी बनाई थी। कंपनी के डायरेक्टर को भी हिरासत में लिया गया है।

'मर्चेंट नेवी के नाम पर नौकरी दिलाने का झांसा देने वाले तीनों लोगों को पकड़ा गया है। उनके पास से पेमेंट की रसीदें, फर्जी दस्तावेज जब्त किए गए हैैं।'

- सौरभ दीक्षित, एएसपी

agra@inext.co.in

Posted By: Agra Desk

Crime News inextlive from Crime News Desk