- स्मार्ट सिटी कंपनी लिमिटेड के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स की मीटिंग में कमिश्नर ने दिया निर्देश

- संपूर्ण कूड़ा निस्तारण के लिये नगर निगम से मांगा प्रस्ताव, बस अड्डों को बाहर करने के लिये एलडीए से जमीन लेने को कहा

lucknow@inext.co.in

LUCKNOW: स्मार्ट सिटी की दौड़ में शामिल राजधानी के तीन चौराहे अगले 20 दिनों में 'स्मार्ट' नजर आएंगे. स्मार्ट सिटी कंपनी लिमिटेड के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स की बैठक में कमिश्नर ने एसपी ट्रैफिक को माइक्रोप्लानिंग कर इन तीन चौराहों को यातायात के लिये सुगम बनाने के निर्देश दिये हैं. इसके अलावा राजधानी में निकलने वाले संपूर्ण कूड़े का निस्तारण करने के लिये नगर निगम से प्रस्ताव प्रस्तुत करने को कहा है. ट्रैफिक कंजेशन की प्रमुख वजहों में से एक रोडवेज बस अड्डों को भी सिटी के बाहर ट्रांसफर करने के लिये एलडीए से जमीन लेने को कहा है.

30 हॉटस्पॉट चौराहे होंगे चिन्हित

स्मार्ट सिटी योजना के लिये लखनऊ स्मार्ट सिटी कंपनी लिमिटेड के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स की मीटिंग कमिश्नर अनूप चंद्र पांडेय की अध्यक्षता में आयोजित की गई. बैठक में लखनऊ मैनेजमेंट एसोसिएशन के डायरेक्टर एके माथुर, अपर नगर आयुक्त पीके श्रीवास्तव, अपर निदेशक क्षेत्रीय नगर एवं पर्यावरण अध्ययन केंद्र एके गुप्ता, चीफ इंजीनियर लेसा आशुतोष कुमार, चीफ इंजीनियर जल निगम जुबैर अहमद, जीएम जल संस्थान एसके वर्मा, एसपी ट्रैफिक हबीबुल हसन, प्रोजेक्ट इंजीनियर सौरभ श्रीवास्तव शामिल थे. बैठक में कमिश्नर पांडेय ने सिटी के बदहाल ट्रैफिक व्यवस्था का मुद्दा उठाते हुए एसपी ट्रैफिक को निर्देश दिया कि वे राजधानी के 30 सर्वाधिक जाम प्रभावित चौराहों को चिन्हित कर उनकी इमेजिंग कराएं. इन इमेज को ट्रैफिक व रोड एक्सप‌र्ट्स को दिखाकर उनसे ट्रैफिक सुचारू रखने के बारे में विचार किया जाए. उन्होंने सचिवालय चौराहा, आईटी चौराहा और हाईकोर्ट चौराहा को लेते हुए उसके बारे में माइक्रोप्लानिंग की जाए और अनुमोदन के बाद नया सिस्टम लागू कर 15 से 20 दिन के भीतर परिणाम लाए जाएं. साथ ही नगर निगम की अवस्थापना निधि से ट्रैफिक लाइट को भी दुरुस्त कराने के निर्देश गए.

उठेगा पूरा कूड़ा

बैठक में राजधानी में कई जगहों पर लगे कूड़े के अंबार पर भी चिंता जताई गई. कमिश्नर पांडेय ने कहा कि वर्तमान में राजधानी में हर रोज 12 सौ टन कूड़ा निकलता है लेकिन, नगर निगम केवल आधा कूड़ा ही उठा पाता है. उन्होंने इसे बेहद गंभीर मामला बताते हुए अपर नगर आयुक्त पीके श्रीवास्तव को निर्देश दिया कि वे टिपिंग की समस्या के निराकरण के लिये प्रस्ताव पेश करें और सपूर्ण कूड़े की उठान सुनिश्चित की जाए. कमिश्नर पांडेय ने ट्रैफिक कंजेशन की प्रमुख वजह रोडवेज बसों की समस्या से लखनऊ को मुक्त करने के लिये जानकीपुरम एरिया में एलडीए से जमीन प्राप्त कर बस अड्डा बनाने व बसों को बाहर ही रखने के निर्देश दिये. उन्होंने सभी प्रमुख चौराहों पर ट्रैफिक सुधार के लिये रोड इंजीनियरिंग के मुताबिक चौराहा सुधार, सड़कों के चौड़ीकरण पर भी जोर दिया.

एलएमए नॉलेज पार्टनर नियुक्त

बैठक में कमिश्नर ने जानकारी दी कि लखनऊ मैनेजमेंट एसोसिएशन को स्मार्ट सिटी कंपनी लिमिटेड का नॉलेज पार्टनर नियुक्त किया गया है. एसोसिएशन कंपनी से संबद्ध सभी विभागों से तालमेल बनाते हुए उन्हें पब्लिक से प्राप्त सुझावों से अवगत कराती रहेगी. कमिश्नर ने कैसरबाग एरिया में सीवर की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार कर जीएम जल निगम को मौके पर जाकर डीपीआर की व्यवहारिक्ता को समझकर रिपोर्ट देने को कहा.