-अच्युतानंद हत्याकांड में हत्यारोपितों को बस स्टॉप तक छोड़ने वाले एक शख्स को पुलिस ने उठाया

-दो अन्य मददगार की तलाश में पुलिस टीमें दे रहीं दबिश

prayagraj@inext.co.in

PRAYAGRAJ: इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के पीसीबी हॉस्टल में छात्रनेता अच्युतानंद उर्फ सुमित शुक्ला के हत्यारोपितों से पुलिस तीन दिन से पूछताछ कर रही है, लेकिन उनके जवाब से संतुष्ट नहीं है. पुलिस का मानना है कि इस हत्याकांड के पीछे किसी और का हाथ हो सकता है. गौरतलब है कि तीन दिन पूर्व पुलिस टीम ने सीएमपी डिग्री कॉलेज के अध्यक्ष आशुतोष त्रिपाठी, हरिकेश मिश्रा व सौरभ सिंह उर्फ प्रिंस को नेपाल के एक होटल से गिरफ्तार किया था. तीनों को शहर लाने के बाद पुलिस इन सभी से तीन दिन से एक गोपनीय स्थान पर रखकर पूछताछ कर रही है. पूछताछ में सीएमपी अध्यक्ष ने अपने बयान में एक ही जवाब दिया गया कि वह सुमित आए दिन चुनाव जीतने के बाद से जलील करता था. पार्टी वाले दिन भी जब उसने अपनी वही हरकत किया. इस पर उसने तैश में आकर गोली मार दी.

आलाकत्ल बरामद में जुटी पुलिस

पीसीबी हॉस्टल में सुमित शुक्ला को जिस पिस्टल से सीएमपी अध्यक्ष ने गोली मारी, पुलिस उसे बरामद करने में जुट गई है. वहीं दूसरी तरफ पुलिस ने कटरा निवासी एक युवक को भी उठाया है. बताया जाता है कि पूछताछ के लिए उठाए गए युवक ने ही हत्या के बाद तीनों आरोपितों को गाड़ी से बस स्टॉप तक ले जाकर छोड़ा था. पुलिस युवक से कड़ाई से पूछताछ कर रही है. वहीं दूसरी तरफ पुलिस की टीमें दो और युवकों की तलाश कर रही हैं. बताया गया है कि इनमें से एक युवक पूर्वाचल का रहने वाला है. इसी ने सभी आरोपितों को चोरी छुपे नेपाल बॉर्डर तक ले जाकर छोड़ा था. इसके बाद सभी नेपाल निकल गए. हालांकि इस मामले में कोई भी अधिकारी कुछ बोलने को तैयार नहीं है. उम्मीद है कि जल्द ही इस हत्याकांड का खुलासा कर दिया जाएगा.