-ज्यादातर युवा डिप्रेशन का शिकार: राज्यमंत्री

-डिप्रेशन की आखिरी स्टेज ही आत्महत्या का कारण

आगरा. विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर लोगों में जागरूकता फैलाने के लिए आगरा कॉलेज मैदान से रैली निकाली गई. रैली का शुभारम्भ राज्यमंत्री समाज कल्याण डॉ. जीएस धर्मेश और सीएमओ डॉ. मुकेश कुमार वत्स ने संयुक्त रूप से झंडी दिखाकर किया. रैली आगरा कॉलेज मैदान से राजामंडी होते हुए सुभाष पार्क पर जाकर समाप्त हुई. रैली में एनएसएस आगरा कॉलेज के बच्चे और स्वास्थ्य विभाग के पैरामेडिकल स्टाफ ने बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया.

डिप्रेशन में लोग कर रहे सुसाइड

रैली को संबोधित करते हुए राज्यमंत्री डॉ. धर्मेश ने कहा कि डिप्रेशन में लोग आत्महत्या कर लेते हैं. आत्महत्या करने के कई कारण होते है. जिसमें सामाजिक और पारिवारिक कारण मुख्य हैं. उन्होंने कहा कि इसी को रोकने के लिए और लोगों में जागरूकता लाने के लिए इस रैली का आयोजन किया गया है. साथ ही उन्होंने कहा कि ज्यादातर युवा डिप्रेशन का शिकार है. उनको जागरुक करना बहुत जरूरी है.

बच्चे भी हो रहे डिप्रेशन का शिकार

सीएमओ डॉ. मुकेश कुमार वत्स ने कहा कि ज्यादातर युवा वर्ग डिप्रेशन के चलते आत्महत्या कर रहे हैं. इसके अलावा आजकल बच्चे भी डिप्रेशन का शिकार हो रहे हैं. जिसका प्रमुख कारण इंटरनेट और मोबाइल है. बच्चे मैदान में गेम खेलने के बजाय मोबाइल पर गेम खेलना ज्यादा पसंद करने लगे हैं. माता-पिता बच्चों पर क्षमता से अधिक बोझ डाल रहे है. जबकि बच्चों को उनकी क्षमता के अनुसार ही कार्य कराना चाहिए. डिप्रेशन की आखिरी स्टेज ही आत्महत्या का कारण बनती है.

आत्महत्या बन रहा ज्वलंत मुद्दा

जिला अस्पताल के मनोचिकित्सक डॉ. एसपी गुप्ता ने कहा कि आत्महत्या इस समय का सबसे ज्वलंत विषय हैं. इस समय सबसे ज्यादा आत्महत्या 15 से 29 वर्ष के युवा कर रहे हैं. पूरे विश्व में 8 लाख लोग प्रत्येक वर्ष आत्महत्या कर लेते हैं. डॉ. गुप्ता ने कहा कि प्रयास यह किया जाए कि अगर हमारे अगल-बगल कोई व्यक्ति निराशाजनक बातें कर रहा है या फिर उसके व्यवहार में अजीब तरीके के बदलाव हो रहे हैं, तो तत्काल उसकी मदद की जाये.

यह लोग रहे मौजूद

रैली के दौरान अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. संजीव वर्मन, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. एसके गुप्ता, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. आरके अग्निहोत्री, उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. पीके शर्मा, जिला मलेरिया अधिकारी आरके दीक्षित, सीएमएस जिला अस्पताल डॉ. सतीश वर्मा सहित आगरा कॉलेज से एनएसएस कैडेट, सहित स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी आशा, एएनएम मौजूद रहे.