यह था मर्डर
ख्वाजमपुर माजरा के पूर्व प्रधान और रोहटा में किराना व्यापारी विमल कुमार गोयल को मंगलवार की सुबह उनकी ही दुकान पर गोलियों से छलनी कर दिया गया था. कत्ल बिल्कुल वैसा था जैसे प्रमोद भदौड़ा का किया गया था. विमल पर अंधाधुंध गोलियां दागी गई. पोस्टमार्टम में भी गोलियां खोजने के लिए पहले कई एक्सरे करवाए गए. जिसमें दर्जनभर गोलियां विमल के शरीर से आरपार थीं. लेकिन तीन से चार गोलियां शरीर में हड्डी में फंसी हुई थीं.

कत्ल का कारण साफ था
विमल से कुछ दिन पहले दस हजार के इनामी और प्रमोद भदौड़ा के कातिल भरतू ने पांच लाख की रंगदारी मांगी थी. यह फिरौती भरतू ने जेल में बंद अपने साथी मोनू की जमानत के लिए मांगी थी.

आखिर कब तक
रोहटा इलाके में बुधवार व्यापारियों में दहशत साफ दिखाई दी. दुकानें नहीं खोली गईं. लोगों में बस मर्डर की चर्चा थी. दहशत विमल के परिजनों में भी थी. विमल के छोटे भाई कमल गोयल ने थाने में रिपोर्ट तो दर्ज करा दी लेकिन अज्ञात बदमाशों के खिलाफ. जबकि फिरौती मांगने वाले बदमाश का नाम पुलिस और पब्लिक जानती है. गोली मारने वाले बदमाशों को इलाके के लोग पहचानते हैं. अब वहां लोगों को लगने लगा है कि पुलिस भी कुछ नहीं कर सकती. जब कत्ल के समय पुलिस के सिपाही मैदान छोडक़र भाग गए तो कोई क्या कर सकता है. व्यापारियों का पुलिस से विश्वास खत्म सा हो गया है.

भरतू होगा पचास हजारी
रोहटा में व्यापारी के मर्डर के बाद एसएसपी ने बुधवार को वहां निरीक्षण किया और व्यापारियों से मिलकर बदमाशों की गिरफ्तारी का आश्वासन दिया. उन्होंने बताया कि कुख्यात संदीप उर्फ भरतू पर इनाम की राशि दस हजार से बढ़ाकर पचास हजार करने के लिए शासन को लिखा गया है. साथ ही उसके साथियों को पकडऩे के लिए कई टीमें भी गठित की गई हैं.

पुलिस की लापरवाही से
हुई हत्या: विजेंद्र अग्र्रवाल
रोहटा रोड के व्यापारी की हत्या का चौतरफा विरोध हो रहा है लेकिन मौके पर संयुक्त व्यापार संघ के पदाधिकारी नहीं पहुंचे. अलबत्ता पूर्व पदाधिकारी जरूर पहुंचे. पूर्व अध्यक्ष विजेंद्र अग्र्रवाल ने कहा कि व्यापारियों से रंगदारी मांगे जाने पर पुलिस को पहले सूचित करने के बाद भी कार्रवाई क्यों नहीं की गई? हत्या के समय भी मौके पर मौजूद पुलिस कर्मियों का कुछ न करना साबित करता है कि पुलिस बदमाशों से मिली हुई है. घटना वाले क्षेत्र के सीओ और एसओ पर भी कार्रवाई की मांग की गई.

हत्यारों को पकड़ों
नहीं तो आंदोलन

रोहटा में व्यापारी की दुकान में घुसकर की गई हत्या के बाद से व्यापारियों में गुस्सा है. संयुक्त व्यापार मंडल के वेस्ट यूपी के अध्यक्ष सुधीर कांत शर्मा ने प्रशासन से मांग की है कि अगर हत्यारों को पकड़ा नहीं गया, तो समस्त व्यापारी सडक़ पर उतरने को बाध्य होंगे. बुधवार को एक मीटिंग करके आक्रोश व्यक्त किया गया.