JAMSHEDPUR: पश्चिम बंगाल के आसनसोल में पुलिस अधिकारी व कांस्टेबल को दो दिसंबर की सुबह गोली मारकर फरार हुए जमशेदपुर के दो अपराधी दविंदर सिंह उर्फ एलेबा उर्फ सोनू और सौरभ चौधरी उर्फ पूरन चौधरी को हावड़ा के जगाचा से पुलिस टीम ने उस समय पकड़ लिया जब दोनों टैक्सी लेकर निकल रहे थे। पूछताछ में दोनों ने बताया कि बस से कोलकाता के लिए चले थे। हावड़ा के निकट सांतरागाछी में उतरे थे। इनके तीसरे साथी फिदौल हूजा उर्फ विक्की फरार है। घटना के दिन आरोपितों ने आसनसोल स्टेशन पर हंगामा मचाया था। पकड़े गये अपराधियों को मंगलवार को आसनसोल न्यायालय में पेश किया गया। बुधवार को इनकी शिनाख्त परेड होगी। गिरफ्तार दोनों आरोपित को कुछ दिन पहले ही जमशेदपुर के घाघीडीह सेंट्रल जेल से जमानत पर रिहा हुए है। सौरभ उर्फ पूरन चौधरी गोलमुरी देबुन बागान और दविंदर उर्फ देवेंद्र सिंह नामदा बस्ती प्रकाशनगर का निवासी है।

फायरिंग कर हुए थे फरार

मालूम हो कि आसनसोल साउथ थाना अंर्तगत 13 नंबर मोड़ के निकट पुलिस गश्ती दल पर आरोपित फाय¨रग कर फरार हो गये थे। घटना में घायल सब इंस्पेक्टर संदीप पाल का दुर्गापुर में वहीं घायल पुलिस वाहन चालक अरिजीत सामंत जिला अस्पताल में इलाजरत है। इस घटना के बाद पुलिस ने सीसीटीवी में कैद उनकी तस्वीर से पहचान कर पूरे राज्य की पुलिस को सतर्क कर दिया था। घटनास्थल से पुलिस ने कारतूस का तीन खाली खोखा बरामद किया। पुलिस को एक बैग मिला इसमें 2 मोबाइल फोन व 2 सैंडल मिले। इस संबंध में आसनसोल साउथ थाना के प्रभारी सुदीप्त प्रमाणिक ने प्राथमिकी दर्ज कराते हुए कहा कि 2 दिसंबर 2019 को अहले सुबह करीब 4 बजे उन्हें सूचना मिली कि 13 नंबर मोड़ पर एसआई संदीप पाल व जीप चालक अरिजीत सामंत को गोली मार दी गई है। पुलिस ने घटनास्थल से चांडिल जंक्शन से आसनसोल जंक्शन तक के 2 टिकट बरामद किया है।

टाटानगर स्टेशन में मांगा था रूम

रविवार की रात को गिरफ्तार आरोपितों ने टाटानगर स्टेशन के प्लेटफार्म संख्या एक स्थित स्टेशन मास्टर कार्यालय में जाकर जबरन वीआइपी रूम चार-पांच घंटे ये कहते हुए मांगी कि दोनों रेलवे सुरक्षा बल के जवान हैं। दोनों को किराये में रूम लेने को कहा गया। इसके बाद दोनों चले गए।

लूटपाट में शामिल थे

एमजीएम थाना क्षेत्र के बेलाजुड़ी काली मंदिर के पास मुर्गा व्यवसायी मानगो निवासी शेख शहाबुद्दीन से सौरभ चौधरी और दविंदर उर्फ देवेंद्र सिंह उर्फ आइ लव पंजाब ने अपने साथियों के साथ तीन नवंबर को लूटपाट की थी। बंटवारे को लेकर विवाद होने पर अपने सहयोगी मानगो वेलफेयर टावर निवासी लवप्रीत को दोनों ने गोली मार दी थी। एमजीएम पुलिस को मामले में दोनों की तलाश है। वहीं मामले में पुलिस लवप्रीत और जॉन कुरियन को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था।

Posted By: Inextlive

inext banner
inext banner