9.90 लाख रुपये के लूटकांड में मुख्य आरोपी थे दोनों बदमाश, 3 अन्य गिरफ्तार

पल्लवपुरम में बदमाशों को एक फ्लैट में घेरा, एनकाउंटर में पुलिसकर्मी भी घायल

एडीजी जोन और आई रेंज ने दी जानकारी

मारे गए बदमाशों में एक बदमाश को निर्दोष बताते हुए परिजनों का हंगामा

ऐहतियातन लिसाड़ी गेट थानाक्षेत्र में बड़ी संख्या में पुलिसबल तैनात

Meerut. मेरठ में गुरुवार रात्रि एनकाउंटर में पुलिस ने दो बदमाशों को ढेर कर दिया. मारे गए बदमाश गत दिनों हुए 9.90 लाख रुपये कैश के लूटकांड के मुख्य आरोपी थे. इससे पूर्व पुलिस ने इसी केस में रेकी करने वाले रिटेल आउटलेट कर्मचारी समेत 3 बदमाशों को पहले ही गिरफ्तार कर लिया था. एडीजी जोन प्रशांत कुमार ने घटनाक्रम का खुलासा किया और पुलिस टीम को शाबासी दी. एनकाउंटर में इंस्पेक्टर समेत पुलिस के जवान भी घायल हो गए.

ये है मामला

एडीजी जोन प्रशांत कुमार ने पुलिस लाइन सभागार में आयोजित प्रेसवार्ता में बताया कि 11 जुलाई, गुरुवार रात्रि करीब 3 बजे पुलिस एनकाउंटर में 1 लाख का इनामी हिस्ट्रीशीटर शकील पुत्र इकरामुद्दीन निवासी पल्हेड़ा थाना पल्लवपुरम और 25 हजार का इनामी गुलफाम उर्फ भूरा निवासी जाकिर कॉलोनी थाना लिसाड़ी गेट गंभीर घायल हो गए थे. घायल बदमाशों को पुलिस अस्पताल ले गई, जहां डॉक्टरों ने इन्हें मृत घोषित कर दिया. दोनों हिस्ट्रीशीटर गत दिनों लालकुर्ती थानाक्षेत्र में कैशियर से गन प्वाइंट पर हुई 9.90 लाख रुपये की लूट के आरोपी थे. लूट की इस वारदात में पुलिस ने गुरुवार शाम रेकी करने वाले एक रिटेल आउटलेट के कर्मचारी संदीप उर्फ शंभू पुत्र फूल सिंह निवासी हस्तिनापुर, हाल निवासी पल्लवपुरम, भराला निवासी उमंग पुत्र देवेंद्र और नितिन उर्फ डालर पुत्र लोकेश को गिरफ्तार किया था. आरोपियों के पास से पुलिस ने करीब 50 हजार रुपये और अवैध हथियार बरामद किए थे.

निशानदेही पर घेरे कुख्यात

एडीजी ने बताया कि पकड़े गए तीनों आरोपियों की निशानदेही पर इंस्पेक्टर थाना पल्लवपुरम, थाना टीपीनगर, थाना लालकुर्ती और सीओ दौराला जितेंद्र सरगम पुलिसबल के साथ शकील और भूरा की तलाश कर रहे थे. लूटकांड का मुख्य आरोपी शकील अपने साथी भूरा के संग एक फ्लैट में रुका है, ऐसी जानकारी पर पुलिस ने पल्लवपुरम स्थित उदय पार्क में एक फ्लैट को घेर लिया. यह फ्लैट मनोज गर्ग का है, पुलिस के मुताबिक इस फ्लैट में आरोपी शकील परिवार को बंधक बनाकर रह रहा था. घेराबंदी के बाद पुलिस ने शकील को ललकारा जिस पर शकील और भूरा ने पुलिस पर फायरिंग कर दी. इस फायरिंग में थाना पल्लवपुरम के इंस्पेक्टर जनक सिंह चौहान और कांस्टेबल विकास दहिया घायल हो गए. इसके बाद पुलिस ने एनकाउंटर में दोनों बदमाशों को ढेर कर दिया.

परिवार को बना रखा था बंधक

पुलिस लाइन सभागार पहुंचे पीडि़त मनोज के पुत्र तुषार गर्ग ने मीडिया के समक्ष रो-रोकर शकील की कारगुजारियों को बयां किया. तुषार ने बताया कि आरोपी शकील गत कई वर्र्षो से उसके परिवार को उत्पीड़न कर रहा है. आरोपी उसके घर पर आ धमकता और परिवार को बंधक बनाकर खुद मालिक बनकर रहता था. पीडि़त मनोज अपना घर छोड़कर गत तीन माह से किराए के मकान में रह रहा था. आरोपी ने यहां भी डरा-धमकाकर आना जाना शुरू कर दिया था. परिवार कुख्यात के अनैतिक व्यवहार से परेशान था. एनकांउटर के दौरान भी कुख्यात अपने साथी के साथ मनोज के फ्लैट में जबरन काबिज था.

बंटवारे को लेकर गोलीबारी

पुलिस लाइन में पहुंचे लुटेरों में शामिल उमंग के हाथ में प्लास्टर बंधा था. पूछताछ पर मालूम चला कि लूट की धनराशि के बंटवारे में ये पांचों बदमाश आपस में लड़ गए थे जिसके बाद आरोपी भूरा ने उमंग को गोली मार दी थी. पुलिस ने पकड़े गए आरोपियों से 50 हजार और मुठभेड़ में मारे गए बदमाशों से 4.13 लाख रुपये बरामद किए. घटना में प्रयोग में लाई गई पल्सर बाइक समेत अवैध हथियार भी पुलिस ने बरामद कर लिए.

मिलेगा ईनाम, दी शाबासी

एनकाउंटर में मारे गए कुख्यात हिस्ट्रीशीटर शकील पर एडीजी जोन ने 1 लाख रुपये का इनाम घोषित किया था. जबकि आरोपी गुलफाम उर्फ भूरा पर एसएसपी द्वारा 25 हजार रुपये का इनाम घोषित था. एडीजी ने बताया कि एनकाउंटर में शामिल पुलिस टीम को शाबासी दी गई है और इनाम की राशि दी जा रही है. प्रेसवार्ता में आईजी रेंज आलोक सिंह, एसएसपी मेरठ अजय कुमार साहनी, एसपी सिटी डॉ. एएन सिंह, सीओ हरिमोहन सिंह, जितेंद्र सरगम समेत विभिन्न थानों के प्रभारी मौजूद थे.

9.90 लाख रुपये के लूटकांड का पुलिस ने खुलासा कर दिया है. गुरुवार शाम 3 बदमाशों की गिरफ्तारी के बाद गुरुवार रात्रि करीब 3 बजे एनकाउंटर के बाद दो बदमाशों की मौत हो गई. पुलिस ने लूटी गई रकम और अवैध हथियार बरामद कर लिए हैं.

प्रशांत कुमार, एडीजी जोन, मेरठ