- रात में दोनों हाथी इधर से उधर की तय कर रहे दूरी

- नेपाल के जंगलों से भटक कर आएं है दो हाथी, मचा रहे उत्पात

बरेली : नेपाल के जंगलों से भटक कर आए दोनों हाथी मीरगंज तहसील क्षेत्र में आतंक मचाए हुए हैं. नरखेड़ा गांव से करीब दस किलोमीटर दूरी तय कर दोनों हाथी भाखड़ा और पीला खार नदियों को पार कर मंडनपुर गांव में पहुंच गए. फ्राई डे को हाथियों को गांव स्थित मोहम्मद आफाक मलिक के आम के बाग मे देखा गया. इन दोनों हाथियों ने आम से लदे पेड़ो को उजाड़ा, सूचना पर मौके पर पंहुचे वन विभाग की टीम ने जब हाथियों को खदेड़ना का प्रयास किया तो हाथी उन पर हमलावर हो गए. हाथियों ने काफी दूर तक वन कर्मियों को दौड़ाया. देर शाम तक दोनों हाथी मंडनपुर में खेतों में उत्पात मचाते रहे.

रात में सैर, दिन में आराम

बता दें कि अभी तक हाथियों ने रात में ही लंबा सफर तय किया है. विभागीय अफसरों की माने तो अब रात में टापू बनाकर स्पॉट लाइट की मदद से रात में ही हाथियों को उनके पुराने मार्ग पर हांका लगाकर ले जाने का प्रयास किया जाएगा.

वनकर्मी मजे से खा रहे आम

नेपाली हाथियों से भले ही शहरवासियों से लेकर ग्रामीणों में दहशत कायम हो लेकिन वन विभाग के कर्मचारियों के लिए यह महज एंजायमेंट का जरिया है. फ्राईडे को ऐसा ही कुछ देखने को मिला जिस दौरान हाथी मंडनपुर में आम के बाग में उत्पात मचा रहे थे तो उसी दौरान कुछ वन कर्मी उन्हें खदेड़ने की वजाए आम खाते नजर आए. ग्रामीणों की सूचना देने के बावजूद वन कर्मियों ने आम खाना बंद नहीं किया.

सेल्फी ली तो उग्र हो गए हाथी

मंडनपुर में बाग उजाड़ने के बाद हाथी पास के ही एक गन्ने के खेत में आराम फरमा रहे थे, इसी दौरान कुछ ग्रामीणों ने हाथियों के कुछ करीब आकर मोबाइल से सेल्फी लेने का प्रयास किया इस दौरान हाथी उग्र हो गए, चिंघाड़ना शुरु किया तो वन कर्मियों ने मौके से ग्रामीणों को खदेड़ा.

वर्जन ::

हाथी रात में ही सफर कर रहे हैं इसके लिए उन्हें अब रात में भी हांका लगाकर रेंज में दाखिल करने का प्रयास किया जाएगा. फिलहाल अभी ट्रेंकुलाइज करने का कोई विचार नही है.

भरत लाल, डीएफओ.