- एक ही नंबर पर ई-कैटरिंग, कंप्लेन, मदद के साथ ही मिलेगी दूसरी फैसिलिटी

- अब तक सभी सुविधाओं के लिए है अलग नंबर

- रेलवे ने एक ही नंबर जारी कर लोगों को राहत देने के लिए शुरू की कवायद

Gorakhpur@inext.co.in
GORAKHPUR: कैटरिंग की कंप्लेन करनी हो या फिर ट्रेन में साफ-सफाई का हाल बताना हो. बच्चों को सही ठिकाने तक पहुंचाना है या फिर ट्रेन के बारे में जानकारी करनी हो. इसके लिए पैसेंजर्स को कंप्लेन या इंफॉर्मेशन देने से पहले तो यह सर्च करना पड़ता है कि कंप्लेन कहां की जाएगी और फिर इसका नंबर क्या है, इसकी तलाश करनी पड़ती है. मगर जल्द ही ऐसा नहीं होगा. रेलवे एक बार फिर यूनिफाइड नंबर जारी करने जा रहा है, जिससे पैसेंजर्स सभी समस्याओं और सुविधाओं का सॉल्युशन एक ही प्लेटफॉर्म पर पा सकेंगे. इसके लिए कवायद शुरू हो चुकी है और क्रिस ने इसको लेकर वर्क करना भी शुरू कर दिया है. एक नंबर होने से पैसेंजर्स को इसे याद करने में मुश्किल नहीं होगी और उनकी सभी तरह की समस्याओं का हल मिल जाएगा.

देशभर में एक ही नंबर
रेलवे में पहले 131 नंबर जारी किया था, जिससे ट्रेन इनक्वायरी से लेकर पैसेंजर्स की सभी तरह की समस्या का समाधान हो जाता था. मगर बाद में कंप्युटराइज नंबर जारी किया गया और धीरे-धीरे यह व्यवस्था खत्म कर दी गई. अब हालत यह है कि हर एक सुविधा के लिए रेलवे ने अलग-अलग हेल्पलाइन और सजेशन नंबर जारी कर दिए हैं. इससे कई बार पैसेंजर्स को इस बात का कनफ्यूजन रहता है कि आखिर वह किस चीज की कंप्लेन किस नंबर पर करें. इस परमानेंट प्रॉब्लम का सॉल्युशन ढूंढते हुए रेलवे ने यूनिफाइड नंबर की प्लानिंग की है, जिसकी सुविधा पैसेंजर्स को जल्द ही मिलने लगेगी.

आरपीएफ हेल्पलाइन से शुरुआत
देशभर में एक ही नंबर रहे, इसकी पहल रेलवे प्रोटेक्शन फोर्स यानि आरपीएफ के हेल्पलाइन नंबर से शुरू हुई है. 2015 में शुरू हुई इस फैसिलिटी के बाद अब देशभर में कहीं पर भी कंप्लेन करनी हो, पैसेंजर्स को बस ट्रेन में 182 डायल करना है. इसके बाद फीमेल पैसेंजर को अपनी लोकेशन और प्रॉब्लम शेयर करनी है. हेल्पलाइन पर बैठी अटेंडेंट संबंधित स्टेशन पर कंप्लेन फॉर्वर्ड करती है, जिसके बाद नेक्स्ट स्टेशन पर आरपीएफ उन्हें अटेंड करती है और मुसीबत से छुटकारा दिलाती है. इसी तर्ज पर यूनिफाइड हेल्पलाइन जारी कर दी जाएगी, जिसमें संबंधित स्टेशन के जिम्मेदार को जानकारी दी जाएगी और लोगों को मुसीबत से छुटकारा मिलेगा.

अभी यह नंबर हैं मौजूद

सिक्योरिटी हेल्पलाइन के लिए 182

मेडिकल, सफाई, खाना और कोच मैनेजमेंट के लिए 138

ट्रेन स्टेटस, ट्रेन अराइवल, सीट की जानकारी के लिए 139

कैटरिंग कंप्लेन के लिए 1800111321

वुमन हेल्पलाइन 1091

चाइल्ड लाइन हेल्पलाइन 1098

एक्सीडेंट इंफॉर्मेशन के लिए 1072

विजिलेंस हेल्पलाइन 152210

क्लीन माई कोच - 58888

रेलवे यूनिफाइड नंबर की कवायद शुरू कर चुका है. इससे सभी पैसेंजर्स को ढेरों नंबर याद नहीं करने पड़ेंगे और उनकी सभी तरह की समस्याओं का हल भी इसी के जरिए मिल जाएगा.
- संजय यादव, सीपीआरओ, एनई रेलवे