उन्नाव (एएनआई)। उत्तर प्रदेश सरकार ने उन्नाव की दुष्कर्म पीड़िता के परिवार को मुआवजे के रूप में 25 लाख रुपये देने की घोषणा की है। उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने शनिवार को अपने सहयोगी कमल रानी और उन्नाव के सांसद साक्षी महाराज के साथ पीड़ित परिवार से मुलाकात की। मौर्या ने कहा, 'मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने फास्ट ट्रैक कोर्ट गठित करने का फैसला किया है ताकि मामले के आरोपियों को जल्द से जल्द सजा मिल सके। मुख्यमंत्री ने मृतक के परिवार को मुख्यमंत्री सहायता कोष से 25 लाख रुपये देने का फैसला किया है। आज शाम तक पीड़ित परिवार तक चेक पहुंच जाएगा।'

पूरी सरकार पीड़िता के परिवार के साथ

मौर्या ने आगे कहा, 'पूरी सरकार और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पीड़ित परिवार के साथ हैं। इस मामले में आरोपियों को जल्द से जल्द सजा मिलेगी। राज्य में किसी भी दोषी को छोड़ा नहीं जाएगा। पीड़िता का परिवार जो भी जांच चाहेगा, हम करेंगे। पीड़िता ने जो नाम लिए हैं, उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा। यह राजनीति का विषय नहीं है।' वहीं सांसद साक्षी महाराज ने कहा, 'मैं अपनी पार्टी के साथ पीड़ित परिवार के समर्थन में हूं। मैं संसद में भी इसके बारे में मुखर रहा हूं। दोषियों को& बख्शा नहीं जाएगा। उन्नाव का नाम बदनाम किया गया है।'

Unnao Case: योगी सरकार का बयान, फास्ट ट्रैक कोर्ट में होगी मामले की सुनवाई, जानें किसने क्या कहा

घर से अदालत जा रही थी पीड़िता

दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में जीवन के लिए जूझने के बाद, दुष्कर्म पीड़िता की शुक्रवार की रात 11:40 बजे उसकी मौत हो गई। पीड़िता को गुरुवार की सुबह अदालत में सुनवाई के लिए जाते समय किरोसिन छिड़ककर आग के हवाले कर दिया गया था। महिला उस समय एक स्थानीय अदालत में दुष्कर्म के मामले की सुनवाई पर जाने के लिए घर से निकली थी। पीड़िता ने इस साल मार्च में आरोपियों के खिलाफ दुष्कर्म का मामला दर्ज कराया था। मामले की उत्तर प्रदेश के एक स्थानीय अदालत में सुनवाई चल रही थी। गुरुवार को 23 वर्षीय पीड़िता को लखनऊ के एसएमसी सरकारी अस्पताल से सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

Posted By: Mukul Kumar

National News inextlive from India News Desk