हाईस्कूल में बाराबंकी के एस साई इंटर कॉलेज के आशुतोष मिश्रा ने टॉप किया है. आशुतोष ने 600 से 584 अंक गेन किए है. सेकंड पोजिशन पर भी बाराबंकी का कब्जा रहा है. बाराबंकी के महारानी लक्ष्मी बाई इंटर कॉलेज की आराधना शुक्ला ने 582 नंबर गेन करके सेकंड पोजिशन हासिल की है.

थर्ड पोजिशन में एसडी सिंह इंटर कॉलेज इलाहाबाद की  श्रेया श्रीवास्तव रही है. उन्होंने 577 अंक गेन करके यह पोजिशन बनाई है. हाईस्कूल का ओवर ऑल रिजल्ट 86.63 प्रतिशत रहा है. माध्यमिक शिक्षा परिषद के सचिव वासुदेव यादव ने बताया कि लास्ट ईयर की तुलना में रिजल्ट में 2.88 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई है.

गर्ल्स का फिर रहा जलवा

हाईस्कूल के रिजल्ट में भी गर्ल्स एक बार फिर से ब्वायज पर हावी रही है. गल्र्स का पासिंग परसेंट 91.25 है जबकि ब्वायज का पासिंग परसेंट 82.87 पर ही अटक कर रह गया है. वासुदेव यादव ने बताया कि हाईस्कूल एग्जाम में 3331904 स्टूडेंट्स एग्जाम में शामिल हुए थे, जिसमें से 2886379 स्टूडेंट्स पास हुए है. बता दे कि बाराबंकी जिला लगातार हाईस्कूल एग्जाम में दूसरी बार अपनी पोजिशन मेंटेन रखने में कामयाब हुआ है. लास्ट ईयर हाईस्कूल में बाराबंकी की पूजा यादव ने टॉप किया था.

हिंदी, इंग्लिश में लगभग बराबर स्टूडेंट्स फेल

आमतौर पर यूपी बोर्ड के स्टूडेंट्स के अंग्रेजी में हाथ तंग माने जाते है. लेकिन इस रिजल्ट में यह साफ हो गया है कि हिंदी व अंग्रेजी में फेल होने वाले स्टूडेंट्स की तादाद लगभग बराबर है. बोर्ड ने सब्जेक्ट वाइज पासिंग परसेंट के डिटेल्स भी उपलब्ध करवाए है. चौंकाने वाली बात यह है कि जहां हिंदी में 17.52 प्रतिशत स्टूडेंट्स फेल हुए है वहीं अंग्रेजी में भी 17.13 प्रतिशत स्टूडेंट्स फेल हुए है.

ऐसे देखें रिजल्ट

जो स्टूडेंट्स अपना रिजल्ट चेक करना चाहते हैं वे बोर्ड की ऑफिशियल साइट http://upresults.nic.in पर जा सकते हैं. स्टूडेंट्स को बस इस दिए हुए लिंक पर क्लिक करना है. इसके बाद एक उन्हें अपना रोल नंबर डालना है. जिसके बाद स्टूडेंट्स के सामने रिजल्ट आ जाएगा.

स्टूडेंट्स अपना रिजल्ट मोबाइल से एसएमएस मंगाकर भी देख सकते हैं. इसके लिए उन्हें रिजल्ट टाइप कर स्पेस देने के बाद यूपी10 लिखना होगा और फिर स्पेस के बाद अपना रोल नंबर लिखकर इसे 56263 पर भेजना होगा.

इस साल यूपी बोर्ड में 62.08 लाख स्टूडेंट्स ने 10वीं का एग्जाम दिया था. यूपी बोर्ड ने हाईस्कूल के एग्जाम के लिए 10 हजार से ज्यादा एग्जामिनेशन सेंटर बनाए थे.

National News inextlive from India News Desk