लखनऊ (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश पुलिस ने राज्य में चोरी, लूट और साइबर फ्रॉड जैसे मामले में एफआईआर दर्ज कराने में आसानी के लिए 'UP Cop' ऐप लॉन्च किया है। इस ऐप को तैयार कराने में मदद करने वाले एडिशनल डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस (टेक्निकल सर्विस) आशुतोष पांडेय ने कहा, 'चोरी, लूट और साइबर फ्रॉड जैसे मामले में अपने सामान वापस लेने या अपने नुकसान को बताने के लिए एफआईआर दर्ज कराना जरूरी होता है लेकिन इस तरह के मामलों में पीड़ितों को अपनी एफआईआर दर्ज कराने के लिए पुलिस थानों के कई चक्कर लगाने पड़ते हैं। इसे आसान बनाने के लिए हमने यह ऐप लॉन्च किया है, जो हर तरह के स्मार्टफोन में उपलब्ध होगा।'

फाॅरेस्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट में नौकरी का झांसा देकर भाई-बहन से ठगे 4 लाख, एफआईआर दर्ज, जांच शुरु

कई तरह की सुविधाएं ऐप में मौजूद
इस ऐप में 27 तरह की सेवाएं उपलब्ध हैं, जिसमें इम्प्लॉई वेरिफिकेशन, कैरेक्टर सर्टिफिकेट वेरिफिकेशन, धरना / विरोध प्रदर्शन के लिए परमिशन, इवेंट्स और फिल्म की शूटिंग की अनुमति जैसी सुविधाएं शामिल है। इस ऐप के जरिये लोग पोस्टमार्टम रिपोर्ट, दुर्व्यवहार रिपोर्ट, लापता व्यक्तियों की रिपोर्ट, चोरी और बरामद वाहनों के बारे में भी जानकारी  हासिल कर सकेंगे। बता दें कि इस ऐप को राज्य सरकार के ई-डिस्ट्रिक्ट पोर्टल से जोड़ा गया है ताकि लोग इसके जरिये जिला मजिस्ट्रेट या जिला कलेक्टर द्वारा जारी किए गए सभी दस्तावेजों के लिए आवेदन कर सकें। इसके अलावा इस ऐप के माध्यम से कोई भी व्यक्ति पुलिस के साथ अपराध के बारे में गोपनीय जानकारी साझा कर सकता है और उनके पहचान को भी पुलिस द्वारा सार्वजानिक नहीं किया जायेगा।

National News inextlive from India News Desk