आगरा: योग से ऊर्जा मिलती है। कोरोनाकाल में योग की महत्ता भी काफी बढ़ी है। योग से लोगों को न केवल कोरोनाकाल में सकारात्मक ऊर्जा मिली, बल्कि जो लोग कोरोना से प्रभावित हुए, उन्हें रिकवर होने में भी योग से सहारा मिला। दैनिक जागरण-आईनेक्स्ट ने इंटरनेशन योग दिवस पर डॉ। भीमराव अंबेडकर यूनिíसटी के साथ ऑनग्राउंड एक्टिविटी का आयोजन किया। इसमें अंतर्राष्ट्रीय योगाचार्य डॉ। आरके शर्मा ने योग के टिप्स दिए।

योग हमारे का जीवन हिस्सा

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए कुलपति प्रो। अशोक मित्तल ने कहा कि योग से व्यक्ति निरोग होता है। योग करने से मन, मस्तिष्क व शरीर सभी स्वस्थ होते हैं। योग हमारे जीवन का एक हिस्सा है, जिसे प्रत्येक को, चाहे वह छात्र हो, शिक्षक हो, प्रत्येक मनुष्य को अपने जीवन में प्रतिदिन की दिनचर्या में शामिल करना चाहिए। कार्यक्रम का संचालन छात्र कल्याण विभाग के डीन प्रो। बृजेश रावत ने किया। कुलपति का समान राष्ट्रीय सेवा योजना के समन्वयक रामवीर सिंह चौहान ने किया। योग गुरु का समान खेलकूद विभाग के प्रभारी डॉ। बीडी शुक्ला ने किया। इस अवसर पर विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ। अंजनी कुमार मिश्रा, परीक्षा नियंत्रक डॉ। राजीव कुमार, इंजीनियरिंग संस्थान के निदेशक प्रो। वीके सारस्वत, टूरिज्म डिपार्टमेंट के निदेशक प्रो। लवकुश मिश्रा, सहयक कुलसचिव अजय गौतम, अनूप कुमार, कंप्यूटर विभाग के डायरेक्टर प्रोफेसर अनिल गुप्ता, डॉ। यूएन शुक्ला, विश्वविद्यालय मॉडल स्कूल की प्रिंसिपल अमिता शर्मा, मॉडल स्कूल के सभी शिक्षक छात्र-छात्राएं, सुनील दीक्षित, कुमारी मेघना, मनीष रावत, दीपक कुलश्रेष्ठ आदि उपस्थित रहे।

इन आसनों को करें

बालासन

वो महिलाएं जो योग की शुरूआत करना चाहती हैं उन्हें बालासन जरूर करना चाहिए। ये योगासन शरीर को लचीला बनाने में मदद करने के साथ ही आसानी से हो जाता है। वहीं बालासन करने से मानसिक शांति मिलती है और तनाव को भगाने में मदद।

मलासन

पैरों और जांघों की हड्डियों को मजबूती देनी है तो कुछ देर मलासन करें। इस आसन को करने के लिए सबसे पहले मैट बिछाकर उसपर सीधा खड़े हो जाएं। फिर घुटनों को मोड़ते हुए और हाथों को नमस्ते के पोज में करते हुए बैठें। ध्यान रहे की घुटनों के बीच दूरियां बनी रहें। इस आसन को करने से पैरों में या जांघों में होने वाले दर्द में राहत मिलती है।

वृक्षासन

खड़े होकर किया जाने वाला ये आसन संतुलन बनाने में मदद करता है। दिमाग को शांत कर शरीर का संतुलन बनाने वाला आसन महिलाओं के लिए बहुत फायदेमंद है। इसे करने के लिए मैट बिछाकर सीधे खड़े हो जाएं। फिर एक पैर को उठाकर दूसरे पैर के घुटनों के पास सटाकर खड़े हो जाएं। फिर एक पैर पर खड़े होकर संतुलन बनाएं।

बच्चों के विकास के लिए जरूरी

योग न केवल बड़ों को रोगों से दूर रखता है, बल्कि बच्चों के लिए ये काफी फायदेमंद है। योगाचार्य डॉ। आरके शर्मा ने बताया कि पांच साल से ऊपर के बच्चों को योग कराया जाए, तो ये उनके मानसिक और शारीरिक विकास में बूस्टर की तरह साबित हो सकता है। उन्होंने कहा कि बच्चों में अलग-अलग उम्र पर बॉडी में हार्मोन डेवलप होते हैं। यदि बच्चे योग करेंगे तो इससे उनका शारीरिक और मानसिक विकास और तेजी से व बेहतर तरीके से होगा। उन्होंने कहा कि कुछ बच्चे बचपन से ही कमजोर होते हैं, ऐसे बच्चों को योग जरूर करना चाहिए।

ऑफिस गोइंग्स काम से निकाले समय

भागदौड़ भरी जिंदगी में ज्यादातर लोग अपने शरीर के लिए समय नहीं निकाल पाते हैं। कुछ लोगों को सुबह उठने में परेशानी होती है तो वे योग या एक्सरसाइज नहीं कर पाते हैं। ऐसे लोग काम के दौरान दस-दस मिनट निकालकर अपने शरीर का भी ध्यान रख सकते हैं। डॉ। आरके शर्मा ने बताया कि कामकाजी और व्यस्त शिड्यूल वाले लोग दिन में तीन बार 10-10 मिनट के लिए टाइम निकालें। वे इस दौरान स्ट्रेचिंग करें और साथ में कुछ ब्रीदिंग एक्सरसाइज करें। इससे उन्हें शारीरिक और मानसिक तौर पर आराम मिलेगा।

महिलाएं करें योग

ज्यादातर महिलाएं दिनभर के काम से खुद के लिए समय नहीं निकाल पातीं। जिसका नतीजा होता है कि जल्दी ही वो मोटापे के साथ ही ब्लड प्रेशर, शुगर, थॉयराइड और घुटने के दर्द जैसी समस्याओं से घिर जाती हैं। डॉ। आरके शर्मा ने बताया कि योग इन सारी समस्याओं का स्थाई इलाज है। खुद को स्वस्थ और महिलाओं को शारीरिक तकलीफों से खुद को दूर रखना है तो दिनभर के व्यस्त समय से खुद के लिए समय निकालिए। योग जरूर करें।