प्रयागराज (ब्यूरो)। इस सनसनीखेज वारदात में युवती और महिला के साथ किया गया व्यवहार कुछ अलग ही संकेत देता है। इससे आशनाई का भी इशारा मिलता है और जबरन रेप की कोशिश का भी। शायद किसी को इसकी भनक लग गयी और यह पूरे परिवार के लिए काल बन गया। पहचान छिपाने के लिए सभी को एक साथ मौत के घाट उतार दिया गया। नामजद रिपोर्ट होने के बाद भी पुलिस इस एंगल को पुष्ट करना चाहती है। इसी के चलते युवती के मोबाइल का कॉल डिटेल निकलवाने का फैसला लिया गया है।

बॉडी नहीं उठने दे रहीं थीं महिलाएं

घटना के बाद स्पॉट पर पहुंची पुलिस ने बॉडी उठाने की कोशिश की तो महिलाएं सामने आ गयीं। उनका कहना था कि आरोपितों को गिरफ्तार किया जाय तभी बॉडी उठने दी जाएगी। इससे पंचनामा की प्रक्रिया भी लेट हो गयी। दोपहर में आईजी डा। राकेश ङ्क्षसह मौके पर पहुंचे। उन्होंने पब्लिक को भरोसा दिलाया कि लापरवाह इंस्पेक्टर के साथ दरोगा सिपाही सस्पेंड किये जाएंगे। उन्होंने भरोसा दिलाया कि आरोपितों पर जल्द से जल्द कार्रवाई होगी। इसके बाद करीब तीन घंटे लग गये बॉडी को निकलवाकर पोस्टमार्टम हाउस भेजवाने में। समाचार लिखे जाने के समय तक मृतकों के शवों का पोस्टमार्टम नहीं कराया गया था। सूचना थी कि रात में ही पोस्टमार्टम कराया जायेगा लेकिन किसी ऑफिशियल ने इसकी पुष्टि नहीं की।

घर के आसपास ही घूमता रहा डॉग स्क्वॉड

हत्यारों की तलाश में खोजी कुत्ते की मदद ली गई। वह अधेड़ के घर से निकला और तालाब तक गया। इसके बाद फिर दूसरे रास्ते से अधेड़ के घर के पीछे भ_े पर जाकर रुक गया। कुछ देर बाद यह मंडराने के बाद वह पुन: मुख्य सड़क पर आ गया।

इतनी जमीन नहीं कि कारण बने

घटना के संबंध में दर्ज करायी रिपोर्ट से जमीन का विवाद बताया गया है। इसे लेकर मारपीट और मुकदमा भी हो चुका था। वैसे गांव समाज की जमीन इतनी नहीं है कि उसके लिए एक साथ चार का खून बहाया जाय। पूछताछ में पता चला कि भूमि विवाद को लेकर मुकदमा मृतक ने नहीं बल्कि उसके भाई की पत्नी ने दर्ज कराया था। मृतक परिवार विपक्षियों के खिलाफ पैरवी कर रहा था। नामजद आरोपियों से झगड़ा मृतक के भाईयों से भी था। इस आधार पर घटना के पीछे भूमि विवाद की वजह कमजोर पड़ रही है। किशोरी से सामूहिक दुष्कर्म करना और फिर उसके माता-पिता, छोटे भाई की नृशंस हत्या करना अवैध संबंंध अथवा आशनाई की ओर शक की सुई घुमा रही है। कुछ घटनाओं में ऐसा भी हुआ है कि दो व्यक्तियों की दुश्मनी का फायदा तीसरे शख्स ने उठाया था।

जो भी दोषी होगा उसे बख्शा नहीं जाएगा। वह चाहे इंस्पेक्टर हों, दरोगा हो या फिर बीट का सिपाही, किसी भी स्तर पर लापरवाही सामने आयी तो कार्रवाई होगी। घटना की तमाम पहलुओं पर जांच करने के लिए पुलिस टीम लगा दी गयी है। जल्द ही कारण के साथ आरोपित सबके सामने होंगे।

डा। राकेश ङ्क्षसह

आईजी, रेंज प्रयागराज