प्रयागराज जंक्शन पर शुरू हुई बैक सेनेटाइज करने के साथ रैप करने की सुविधा

PRAYAGRAJ: घर से लगेज लेकर निकले तो जाने कितने स्थानों पर रखना पड़ा। जाने कितनो का हाथ लगा। इसके चलते बैग कोरोना का कॅरियर तो नहीं बन गया है। घर के लोगों के कोरोना संक्रमित होने का कारण बैग तो नहीं बन जायेगा। ट्रेनो में सफर करने वाले पैसेंजर्स की इस समस्या का समाधान रेलवे ने प्लेटफॉर्म पर ही उपलब्ध करा दिया है। नामिनल चार्ज इसके लिए रेलवे की तरफ से फिक्स जरूर किया गया है लेकिन, इसके चलते मिलने वाले बड़े सुरक्षा घेरे के चलते पब्लिक इससे काफी सुकून महसूस करेगी। इसे प्रयागराज जंक्शन पर ऑफिशियली इंट्रोडयूज कर दिया गया है। शुक्रवार को इस फेसेलिटी के यूजर्स के लिए स्पेशल कार्नर क्रिएट कर दिया गया तो पैसेंजर्स ने इसका यूज भी शुरू कर दिया।

त्योहार के बाद लौटेगी भीड़

धनतेरस के साथ शुरू हुआ पर्व का सिलसिला छठ पूजा के साथ शनिवार को समाप्त हो जाएगा। पर्व के चलते अपनों के बीच आयी पब्लिक का लौटना शनिवार से बड़े पैमाने पर शुरू हो जायेगा। दिवाली के बाद कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों ने सरकार से लेकर पब्लिक तक की चिंता बढ़ा दी है। हर स्तर पर एहतियाती कदम उठाये जा रहे हैं। पब्लिक के मन में ट्रेनों से सफर करने पर कोरोना वायरस फैलने का डर निकालने के लिए रेलवे ने भी महत्वपूर्ण कदम उठाया है। प्रयागराज जंक्शन पर बैग सेनेटाइजेश एवं रैपिंग की सुविधा शुरु कर दी गई है। बैग को पॉलीथीन से पैक किया जा रहा है। लेकिन इसके बदले पैसेंजर्स को एक नार्मल चार्ज देना होगा। इस सुविधा को स्टेशन के कान्कोर्स एरिया में उपलब्ध कराया गया है। पैसेंजर्स को इस सुविधा का लाभ उठाने के लिए बुक बैगेज काउंटर पर कर्मचारियों से संपर्क करना होगा।

शुक्रवार को हुआ डेमो

इस सुविधा को शुक्रवार को डेमो जंक्शन पर हुआ

बैग सेनिटाइजर स्वचालित टनल मशीन अल्ट्रावायलेट किरणों से बैग व अन्य सामान को सैनिटाइज करेगी

इसके जरिए एक बैग 15 से 20 सेकंड में सेनेटाइज हो जाएगा।

इसके बदले पैसेंजर्स से प्रति बैग 10 रुपए लिए जाएंगे।

लगेज रैपिंग का शुल्क 40 रुपए प्रति बैग होगा।

इसके साथ ही पैसेंजर्स को पोस्टर, बैनर, एवं जन उद्घोषणा प्रणाली के माध्यम से जागरूक किया गया

इस अवसर पर वरिष्ठ मण्डल वाणिज्य प्रबंधक अन्शु पाण्डेय, स्टेशन निदेशक अनुपम सक्सेना सहित अन्य अधिकारी एवं कर्मचारीगण उपस्थित रहे।

2000

बैग को एक मशीन एक दिन में कर सकती है सेनेटाइज

500

बैग को एक मशीन एक दिन में कर सकती है रैप

10

रुपये तय किया गया है बैग को सेनेटाइज करने का चार्ज

50

रुपये में सेनेटाइजेशन के साथ रैपिंग की भी सुविधा

इस सुविधा का लाभ उठाने वाले पैसेंजर्स पेमेंट आनलाइन कर सकते हैं। यूपीआई, गूगल पे, फोन पे, पेटीएम जैसे प्लेटफॉर्म पेमेंट आप्शन के रूप में उपलब्ध कराये गये हैं। इस फेसेलिटी की शुरुआत रेल प्रशासन एवं बुक बैगेज डॉट काम इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के संयुक्त प्रयास से की गयी है। ट्रेनो में बिना किसी डर से ट्रेवल करना, यह फेसेलिटी आसान कर देगी।

-अजीत कुमार सिंह

सीपीआरओ एनसीआर

कोविड-19 के संक्रमण से बचाव हेतु विभिन्न सुरक्षात्मक उपायों के अंतर्गत पैसेंजर्स को बोìडग पास की सुविधा, कांटेक्टलेस टिकट चेकिंग की सुविधा, थर्मल स्क्रीनिंग आदि सुविधाएं जंक्शन पर पहले से ही काम कर रही हैं। नई व्यवस्था संक्रमण रोकने की दिशा में मील का पत्थर साबित होगी।

मोहित चंद्रा

मंडल रेल प्रबंधक, प्रयागराज