- 36 पर्सनल यूजर आईडी से टिकट बना कर लोगों से अधिक पैसा लेकर बेचता था टिकट

- 2017 से चल रहा था अवैध गोरखधंधा

prayagraj@inext.co.in

PRAYAGRAJ:

आरपीएफ इलाहाबाद पोस्ट, इलाहाबाद छिवकी व डिटेक्टिव विंग की टीम ने ई-टिकट का इल्लीगल बिजनेस करने के मामले में आईआरसीटीसी के एक एजेंट व प्रतिबंधित सॉफ्टवेयर से ई-टिकट बनाने वाले एक अन्य व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। अधिक लाभ कमाने के उद्देश्य से आईआरसीटीसी का अधिकृत एजेंट छतनाग रोड झूंसी निवासी बृजेश यादव 36 पर्सनल यूजर आईडी से टिकट बना कर लोगों से अधिक पैसा लेकर टिकट बेचता था।

एजेंट का एक अन्य साथी भी पकड़ाया

बुधवार को एसआई अमित द्विवेदी, एसआई धीरज के साथ ही डिटेक्टिव विंग कई दिनों से पर्सनल यूजर आईडी पर टिकट बनाने वालों की तलाश में लगी थी। सर्विलांस के साथ ही मुखबिर की मदद से आरपीएफ की टीम आईआरसीटीसी के एक एजेंट बृजेश यादव व प्रतिबंधित सॉफ्टवेयर एएनएमएस व स्टार-वीटू से ई-टिकट बनाने वाले उसके सहयोगी राहुल सिंह यादव को रंगे हाथ गिरफ्तार किया। जिनके पास से विभिन्न पर्सनल यूजर आईडी पर बने भारी संख्या में टिकट बरामद किए गए। गिरफ्तार किए गए एजेंट व एक अन्य के पास से एक लैपटॉप, चार एंड्रायड मोबाइल, आठ डेबिट एवं क्रेडिट कार्ड, एक डोंगल, डायरी व 11,000 रुपये कैश बरामद किया गया।

अपराध करने का तरीका

- अधिक लाभ कमाने के उद्देश्य से आईआरसीटीसी का अधिकृत एजेंट छतनाग रोड झूंसी निवासी बृजेश यादव 36 पर्सनल यूजर आईडी से टिकट बना कर लोगों से अधिक पैसा लेकर टिकट बेचता था।

- प्रतिबंधित सॉफ्टवेयर पर ई टिकट बनाकर आर्डर के अनुसार सप्लाई करता था। अवैध गोरखधंधा विगत 2017 से कर रहा था।

- कुआडीह एरिया के 30 आईडी से नवंबर 2018 से अभी तक कुल 11 लाख 22 हजार 625 रुपये के टिकट बनाए गए।