- सरकार से गाइडलाइन आने के बाद तय होगी प्लांट की क्षमता

- जिला अस्पताल के प्लांट से महिला अस्पताल को भी होगी आपूर्ति

GORAKHPUR: ऑक्सीजन की कमी से जूझ रहे जिले को राहत मिलने वाली है। दो अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट लगाने के लिए जगह चिन्हित की गई है। टीबी व जिला अस्पताल परिसर में प्लांट लगाया जाएगा। कितनी क्षमता का प्लांट होगा और उसकी क्या एरिया होगी, यह सरकार से गाइडलाइन आने के बाद तय किया जाएगा।

महिला अस्पताल में भी आपूर्ति

जिला अस्पताल व नंदा नगर स्थित 100 बेड टीबी अस्पताल परिसर में प्लांट लगाने के लिए पर्याप्त जगह है। सरकार से संकेत मिलने के बाद इन दोनों अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट लगाने की योजना पर काम शुरू हो गया है। सीएमओ के निर्देश पर जूनियर इंजीनियर ने दोनों अस्पतालों का दौरा कर जगह चिन्हित कर ली है। जिला अस्पताल में लगने वाले प्लांट से जिला महिला अस्पताल को भी ऑक्सीजन की आपृूर्ति की जाएगी। प्लांट लगने के बाद तीन सरकारी अस्पताल ऑक्सीजन के लिए किसी कंपनी पर निर्भर नहीं होंगे। वहां भर्ती मरीजों के लिए पर्याप्त ऑक्सीजन की व्यवस्था हो जाएगी।

----------------------------

हवा से ऑक्सीजन बनाएगा प्लांट

ऑक्सीजन प्लांट इस ढंग से निर्मित किया जाएगा जो हवा खींचकर ऑक्सीजन मे तब्दील करेगा और उसे स्टोर कर लेगा। वहां से सिलेंडर में भरकर उसका उपयोग किया जाएगा। जरूरत पड़ने पर अन्य अस्पतालों को भी आपूर्ति की जाएगी।

दूर होगी ऑक्सीजन की कमी

ऑक्सीजन प्लांट लगने के बाद जिले में ऑक्सीजन की कमी काफी हद तक दूर हो जाएगी। 300 बेड जिला अस्पताल, ढाई सौ बेड जिला महिला अस्पताल व 100 बेड टीबी अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी नहीं होगी। साथ ही अन्य अस्पतालों को भी यहां से आपूर्ति की जा सकेगी।

हमारी तैयारी शुरू हो चुकी है। टीबी व जिला अस्पताल में जगह चिह्नित कर ली गई है। योजना पर काम शुरू कर दिया गया है। सरकार से निर्देश मिलने के बाद उसकी क्षमता के अनुसार जगह निर्धारित की जाएगी।

- डॉ। सुधाकर पांडेय, सीएमओ