लखनऊ (उत्तर प्रदेश) (एएनआई)। अनामिका शुक्ला मामले में सोमवार को उत्तर प्रदेश की स्पेशल टास्क फोर्स ने तीन और लोगों को गिरफ्तार किया है जो राज्य स्कूलों में फर्जी दस्तावेजों का इस्तेमाल करके कथित तौर पर शिक्षकों की नियुक्ति से संबंधित हैं। पुलिस ने गिरफ्तार लोगों की पहचान पुष्पेंद्र सिंह, आनंद और रामनाथ के रूप में की है। पुलिस ने आरोप लगाया कि तीनों को प्रयागराज, अमेठी, रायबरेली, वाराणसी, सहारनपुर, अंबेडकरनगर, अलीगढ़, कासगंज और बागपत जिलों में एक आवेदन के दस्तावेजों के माध्यम से कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय में फर्जी दस्तावेजों का उपयोग करके कई शिक्षकों की नियुक्ति के लिए गिरफ्तार किया गया।

अनामिका शुक्ला मामले की जांच तेजी से चल रही
इससे पहले मामले में दो संदिग्धों को 6 जून और 14 जून को गिरफ्तार किया गया था। बता दें कि 10 जून को अनामिका शुक्ला गोंडा के बेसिक शिक्षा अधिकारी के सामने पेश हुईं और आरोप लगाया कि कस्तूरबा गांधी बालिका स्कूलों में नौकरी लेने के लिए उनके शैक्षिक प्रमाणपत्रों का दुरुपयोग किया गया। अनामिका शुक्ला के खिलाफ 25 अलग-अलग स्कूलों से एक साल से अधिक के वेतन में एक करोड़ रुपये से अधिक की निकासी के लिए प्राथमिकी दर्ज किए जाने के बाद यह केस सामने आया। मामले की आगे की जांच चल रही है।

Posted By: Inextlive

National News inextlive from India News Desk