लखनऊ (ब्यूरो)। कोरोना काल से सबक लेते हुए रेलवे प्रशासन अब जल्द वायु संक्रमण से बचाने वाले एंटी वायरल कोच का निर्माण करेगा। यह नई हाईटेक सुविधा 25 एसी कोच में उपलब्ध कराई जाएगी। इन कोचों की खासियत यह होगी कि इसमें सफर करने वाले यात्री किसी भी तरह के वायु से होने वाले संक्रमण से पूरी तरह सुरक्षित रहेंगे।

आरडीएसओ ने किया डिजायन

दरअसल, अनुसंधान अभिकल्प एवं मानक संगठन आरडीएसओ लखनऊ टीम ने उच्च तकनीकी का सहारा लेते हुए एक स्पेशल एसी कोच डिजाइन किया है। यह कोच पूरी तरह एंटी वायरल और एंटी पैथेजेन सिस्टम से लैस होगा। आरडीएसओ के महानिदेशक संजय भुटानी ने बताया कि पहले चरण में यह सुविधा 25 एसी कोच में दी जाएगी। इसके लिए रेल कोच फैक्ट्री को निर्देश जारी कर दिए गए हैं। ये कोच यूवी-सी तकनीक से लैस होंगे, जिससे हवा में किसी भी तरह का संक्रमण मिलते ही उसमें सफर कर रहे लोगों तक चेतावनी पहुंच जाएगी।

तीन संस्थाओं ने मिलकर बनाया

संजीव भुटानी ने बताया कि इस तकनीक को सीएसआईआर, सीएसआईओ व आरडीएसओ ने मिलकर सफलतापूर्वक बनाया है। आरडीएसओ बाकि दोनों संस्थाओं के साथ मिलकर वायरस और बैक्टीरिया रोधी पराबैगनी किरणों यूवी-सी पर आधारित कीटाणुशोधन प्रणाली विकसित करने में लगा हुआ था। तीनों ही संगठनों ने एसी कोच के हीटिंग, वेंटिलेशन और एयर कंडीशनिंग एचवीएसी सिस्टम संक्रमण से सुरक्षित करने के लिए कई प्रयोग किए। आरडीएसओ और सीएसआईआर ने एसी कोचों के लिए यूवी-सी आधारित सार्स वायरस निष्क्रिय करने की प्रणाली की डिजाइन विकसित की। आरडीएसओ ने चंडीगढ़-बांद्रा एक्सप्रेस में इस तकनीक का ट्रायल किया, जो पूरी तरह से सफल रहा।

99 फीसद वायरस रोकने में सफल

महानिदेशक ने बताया कि आरडीएसओ ने इस प्रोजेक्ट पर काम शुरू किया। इस दौरान सबसे बड़ी चुनौती सेकंड से कम समय में वायरस को निष्क्रिय करने की थी। एसी कोच की एयर डक्ट के जरिए एयर सर्कुलेशन का एक कम्प्यूटेशनल फ्लूड डायनेमिक्स सीएफडी पर अध्ययन किया गया। जिसमें एयरफ्लो के लिए हॉट वायर एनीमोमीटर का उपयोग किया गया। वायरस पर यूवी-सी के प्रभाव का अध्ययन करने के लिए सीएसआईआर, आईएमटेक में लाइव वायरस और यूवी-सी विकिरण के साथ कई प्रयोग किए गए। जिसमें पता चला कि यूवी-सी विकिरण 99 फीसद तक वायरस को निष्क्रिय करने में सक्षम है।

इसे भी जानें

- किसी भी वायु संक्रमण से बचाने के लिए तीन संस्थानों ने मिलकर किए गए प्रयोग

- इस तकनीक को सीएसआईआर, सीएसआईओ व आरडीएसओ ने मिलकर सफलतापूर्वक बनाया

- हवा में मौजूद 99 प्रतिशत तक वायरस को सेकंड से कम समय में खत्म करने का सफल प्रयोग

- यूवी-सी आधारित सार्स वायरस निष्क्रिय करने की प्रणाली की डिजाइन विकसित की गई

- आरडीएसओ ने चंडीगढ़-बांद्रा एक्सप्रेस में इस तकनीक का ट्रायल किया, जो पूरी तरह से सफल रहा