- स्वास्थ्य विभाग हुआ मुस्तैद

- प्री प्लानिंग के तहत टेस्टिंग पर फोकस

- संक्रमण बढ़ने के आशंकाओं के बीच नहीं होगा कोई अस्पताल नॉन कोविड

- हर स्तर को लेकर तैयारियां पूरी

LUCKNOW: राजधानी में कोरोना संक्रमण की रफ्तार रोकने के लिए कोरोना कफ्र्यू लगाया गया है, जिसके अच्छे परिणाम भी देखने को मिले है। वहीं कोरोना कफ्र्यू 1 जून की सुबह से खत्म होने की संभावना है, जिसके बाद एकबार फिर लोगों के बाहर निकलने की आशंका है, जिसको देखते हुए जिला स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों द्वारा कोरोना संक्रमण दोबारा न फैले इसको लेकर तैयारियां तेज कर दी हैं। इसके तहत फोकस टेस्टिंग व कोविड अस्पतालों को नॉन कोविड न करने समेत कई कदम उठाये जा रहे हैं ताकि कोरोना का ग्राफ दोबारा न ऊपर देखने को मिले।

बने रहेंगे कोविड अस्पताल

उम्मीद जताई जा रही कि सरकार द्वारा 31 मई तक ही कोरोना कफ्र्यू रहेगा, जिसमें जरूरी सामान की दुकानों को खुले रहने की छूट है। ऐसे में 1 जून से दोबारा सबकुछ खुलने की उम्मीद है। इसकी वजह कोरोना के ग्राफ में लगातार गिरावट है। वहीं अस्पतालों में करीब 6500 से अधिक बेड हैं। इस समय अस्पतालों में भर्ती मरीजों की संख्या घटकर करीब 1200 के आसपास पहुंच गई है, जिसमें करीब 800 मरीज लेवल 3 अस्पताल में ही भर्ती हैं, लेकिन इसके बावजूद कोई भी अस्पताल नॉन कोविड नहीं किया जायेगा। डिप्टी सीएमओ डॉ। मिलिंदवर्धन के मुताबिक अगर 1 जून से सबकुछ खुलता है तो एक बार फिर संकमण फैलने की आशंका हो सकती है। ऐसे में अस्पतालों में तैयारी पूरी बनी रहे, इसी को देखते हुए कोई भी कोविड अस्पताल को नॉन कोविड में नहीं बदला जायेगा। कफ्र्यू हटने के करीब हफ्ता दस दिन तक देखा जायेगा। अगर संक्रमण नहीं बढ़ता है और आंकड़े कम होते हैं तब जाकर नॉन कोविड की प्रक्रिया के बारे में सोचा जा सकता है क्योंकि विभाग नहीं चाहता कि आगे कोई दिक्कत आये।

फोकस सैंपलिंग पर फोकस

डॉ। मिलिंदवर्धन बताते हैं कि मार्केट खुलने के बाद यहां पर भीड़ बढ़ने का अनुमान रहेगा। इसके अलावा ऑफिस में भी कर्मचारी वापस लौटेंगे। इसी को देखते हुए भीड़भाड़ वाले इलाकों पर पैनी नजर रहेगी, जिसके तहत जिन जगहों पर भीड़ होगी वहां पर आरआरटी टीम द्वारा सैपंलिंग करने का काम किया जायेगा ताकि संक्रमण को फैलने से रोका जा सके। इसके अलावा ऑफिसेस में भी सैंपलिंग कराने के बारे में योजना बनाई जा रही है क्योंकि ऑफिस में ही संक्रमण सबसे ज्यादा देखा गया था। इसके अलावा लोगों को कोरोना के प्रति अवेयर, उससे बचाव आदि के बारे में बताया जायेगा। फिलहाल विभाग प्वाइंट टू प्वाइंट प्लान बनाकर काम कर रहा है ताकि कोई दिक्कतें न आएं।

कोट

सबकुछ खुलता है तो उसको लेकर तैयारियां तेज कर दी गई हैं। फिलहाल कोई भी अस्पताल नॉन कोविड नहीं किया जायेगा। इसके अलावा फोकस सैंपलिंग पर भी जोर रहेगा। लोगों को सावधान रहना होगा।

। डॉ। मिलिंदवर्धन, डिप्टी सीएमओ