- सेनेटाइजेशन के लिए मद बढ़ाने की मांग को किया दरकिनार

Lucknow@inext.co.in

LUCKNOW :

एलयू से संबद्ध कॉलेजों ने प्रति स्टूडेंट मास्क, सेनेटाइजेशन आदि को देखते हुए कंटीजेंसी खर्च बढ़ाने की मांग की है, जिसे एलयू ने मानने से इंकार कर दिया है। जबकि अन्य यूनिवर्सिटी इस पर गंभीरता से विचार कर रही हैं। 2019 के शासनादेश के अनुसार वे यूनिवर्सिटी जिनके संबद्ध कॉलेज हैं, और उन्हें एग्जाम के लिए सेंटर बनाया जाता है। उनको खर्च के लिए तृतीय व चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों को प्रति स्टूडेंट 15 रुपए देने होते हैं। जबकि इस बार सेनेटाइजेशन को लेकर यह खर्च बढ़ जाएगा।

एलयू नहीं बढ़ाएगा पैसा

मांग के बाद भी एलयू ने इस मद का पैसा बढ़ाने से इंकार कर दिया है। शिक्षक नेताओं का कहना है कि एलयू को शिक्षकों, कर्मचारियों और छात्रों की कोई चिंता नहीं है। कोरोना के इस दौर में यूनिवर्सिटी को कंटेंजेंसी खर्च के अलावा कोविड फंड का भी इंतजाम करना चाहिए।

एकेटीयू ने बढ़ाएगा फंड

एकेटीयू के वीसी प्रो। विनय कुमार पाठक ने बताया कि वह छात्रों, शिक्षकों और कर्मचारियों को कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए इस मद में 5 रुपए प्रति प्रति छात्र इजाफा करने पर विचार कर रहा है। वहीं एसएमयू के परीक्षा नियंत्रक अमित राय ने बताया कि अभी इस मद में इजाफे पर कोई चर्चा नहीं हुई है, लेकिन संक्रमण को देखते हुए इस पर विचार किया जाएगा।

एग्जाम में शिक्षकों, छात्रों और कर्मचारियों को संक्रमण से बचाने के लिए सेनेटाइजेशन की जरूरत होगी। इसके लिए यूनिवर्सिटी कोविड फंड के नाम से अतिरिक्त धन दे।

डॉ। मोलिन्दु, पूर्व अध्यक्ष, लुआक्टा

Posted By: Inextlive