लखनऊ (ब्यूरो)। इंदिरानगर इंस्पेक्टर रामफल प्रजापति के मुताबिक मूलरूप से वाराणसी निवासी एक युवती मुंबई कांदीवली में रहकर टिकटॉक और यू-ट्यूब के लिए वीडियो बनाने के साथ गाना गाती है। उसका आरोप है कि लॉकडाउन के पहले उसकी मुलाकात इंदिरानगर मानस सिटी निवासी टिकटॉक बनाने वाले दिव्यांश तिवारी उर्फ राजेंद्र पंडित से हुई। उसने खुद को बड़ा व्यापारी बताते हुए अपना एक प्रोडेक्शन हाउस बनाकर फिल्में बनाने की बात कही।

आठ माह की बेटी
युवती का आरोप है कि दिव्यांश ने उसे अपने प्यार के जाल में फंसा लिया और इसका फायदा उठाकर घर बुलाकर दुष्कर्म किया। विरोध करने पर शादी का झांसा देकर शारीरिक शोषण करने लगा। इतना ही नहीं लॉकडाउन लगने पर अलग घर लेकर लिव-इन-रिलेशनशिप में रहने लगा। इस दौरान दो बार गर्भवती हुई। एक बार गर्भपात करा दिया। दूसरे बार से एक आठ माह की बेटी है। पीडि़ता की तहरीर पर आरोपी व उसके परिजनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच की जा रही है।

क्रिकेट मैच में गया था गाना
पुलिस के मुताबिक पीडि़ता ने बताया है कि उसने अटल बिहारी वाजपेई इंटरनेशनल स्टेडियम (इकाना) में हुए एक क्रिकेट मैच के उद्घाटन के दौरान गाना भी गाया है। इसके साथ ही कई शॉर्ट फिल्मों में भी काम किया है। वैसे वह कई गाने गा चुकी है, जिसके चलते सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर फेमस है।

फिल्म के नाम पर ठगे पैसे
पीडि़ता के मुताबिक आरोपी राजेंद्र से वह 2019 में संपर्क में आई थी। उसने जून 2020 तक शादी करने का वादा किया था, लेकिन हर बार कोई न कोई बहाना बनाकर शादी टालता रहा। उसने इस दौरान कभी मां तो कभी बहन के इलाज के नाम पर रुपये लेना शुरू कर दिये। साथ ही एक फिल्म बनाने की बात कहकर भी पैसे लिये। इन दो वर्षों में राजेंद्र ने करीब बीस लाख रुपये ले लिये, जिसका लेखाजोखा पुलिस को भी दिया है।

आरोपी की बहन बताती है सपा का नेता
पीडि़ता का आरोप है कि राजेंद्र की हरकतों की उसके परिजनों से शिकायत की। उसकी बहन नीतू और नेहा ने घर से धक्का देकर निकाल दिया। साथ ही खुद को सपा नेता बताते हुए जेल भिजवाने की धमकी दी।