एक्सप्रेस वे की मरम्मत में कार्यदायी कंपनी ने झोंकी ताकत

राजमार्ग मंत्रालय नियमित रूप से वीडियो फुटेज के साथ रिपोर्ट भी मंगवा रहा

Meerut। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे पर रोड शो अक्टूबर अंत तक कर सकते हैं। ऐसे में एक्सप्रेस-वे को चुस्त-दुरुस्त करने के लिए राजमार्ग मंत्रालय नियमित रूप से वीडियो फुटेज के साथ रिपोर्ट मंगवा रहा है।

रोड शो से पहले मरम्मत

वैसे तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के रोड शो की तैयारी पर कोई अधिकारी आधिकारिक रूप से बोलने को तैयार नहीं है। मगर गोपनीय रूप से इसकी तैयारी शुरू कर दी गई है। बारिश की वजह से जगह-जगह मिट्टी के किनारे कटे हैं और किनारे की तरफ डामर की परत भी क्षतिग्रस्त हुई है। इसलिए उसकी मरम्मत विधिवत तरीके से रोड शो से पहले कर ली जाएगी। यही नहीं, रोड शो होने तक चिपियाना में रेलवे ओवरब्रिज का भी अधिकांश कार्य कर लिया जाएगा।

85 मशीनें, 409 स्टाफ

मेरठ से डासना तक एक्सप्रेस-वे की मरम्मत में पहले की तुलना में कई गुना स्टाफ बढ़ा दिया गया है। पोकलेन मशीनें समेत कुल 85 मशीनें तैनात की गई हैं। रात्रिकालीन ड्यूटी के लिए श्रमिकों को रेन कोट भी दिए गए हैं। एक महीने के अंदर एक्सप्रेस-वे की सभी तरह की कमियों को दुरुस्त कर लिया जाएगा।

जमीन तक खोदकर बनाया

मानसून की शुरुआती बारिश के बाद जब-जब किनारे क्षतिग्रस्त हुए तब-तब उसकी मरम्मत उस सतह को उखाड़कर की गई। मगर कुछ स्थान ऐसे चिह्नित हुए जो कई बार मरम्मत के बाद भी नहीं संभले। ऐसे में ऐसे सभी टुकड़ों की मरम्मत करने के बजाय उनका स्थाई हल खोजा गया है। ऊपरी सतह से लेकर जमीन तक उसकी खोदाई की जा रही है। फिर नए तरह से उसका निर्माण किया जा रहा है। ताकि भविष्य में कभी बारिश से परेशानी न हो।