वैश्विक बाल दिवस की पूर्व संध्या पर पुलिस ने दिया मौका

वैश्विक बाल दिवस की पूर्व संध्या पर गुरुवार को एक दिन के लिए कैंट थाना की प्रभारी बनी सोनाली श्रीवास्तव। उसने फरियादियों की शिकायतें सुनीं और उन्हें जरूरी सलाह भी दिया। कहा कि पुलिसकर्मी अपनापन दिखाते हुए फरियादियों का विश्वास जीतें। फरियादी अपनी शिकायत या समस्या बताने में संकोच करेंगे तो समस्याएं और बढ़ेंगी। स्नातक कर चुकीं सोनाली ने एक फरियादी की शिकायत का निस्तारण भी किया। 20 नवंबर को संयुक्त राष्ट्र महासभा की पहल पर दुनिया भर के देशों में वैश्विक बाल दिवस मनाया जाता है। किशोरियों और महिलाओं को सशक्त और स्वावलंबी बनाने की दिशा में इन दिनों प्रदेश में भी मिशन शक्ति अभियान चलाया जा रहा है।

युवती को सौंपा परिजनों को

इस अभियान को धार देने के लिए सदर बाजार निवासी सोनाली को कैंट थाना का एक दिन का प्रभारी बनाया गया। शिकायत सुनने के क्रम में सोनाली ने आजमगढ़ से घर छोड़कर आई एक हमउम्र युवती को समझा-बुझाकर उसे उसके परिजनों को सौंपा। सोनाली के सहयोग के लिए कैंट थाना के निरीक्षक राकेश कुमार सिंह और प्रशिक्षु डिप्टी एसपी आस्था जायसवाल मौजूद रहीं। स्नातक उत्तीर्ण सोनाली ने कहा कि वह शिक्षक बनना चाहती हैं। इसके लिए तैयारी भी कर रही हैं। कहा कि थाना और पुलिस शब्द सुनकर उन्हें भी घबराहट होती थी। जब वह थाना में आई और पुलिस की कार्यपद्धति को समझा तो उन्होंने भी ठान लिया है कि अब वह पुलिस अफसर ही बनेंगी और इसके लिए जी-तोड़ मेहनत करेंगी। एसएसपी अमित पाठक ने बताया कि मिशन शक्ति अभियान को जन-जन तक पहुंचाने के लिए जिले की पुलिस रोजाना हरसंभव प्रयास कर रही है। उसी क्रम में यह एक नया प्रयास कर समाज में संदेश देने की कोशिश की गई है कि किशोरियां, युवतियां और महिलाएं अपने साथ होने वाले अन्याय को लेकर चुप्पी तोड़ें। पुलिस, थाना और चौकी को लेकर किसी भी तरह का संकोच न करें। जिले के प्रत्येक थाना में महिला हेल्प डेस्क सिर्फ और सिर्फ उन्हीं की शिकायतों के समाधान के लिए स्थापित किया गया है।