DEHRADUN: पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने एक बार फिर इंटरनेट मीडिया पर अपने विरोधियों को निशाने पर लिया है। रावत ने कहा कि उनके कुछ मित्रों ने उन्हें पं¨चग बैग बना रखा है। कोई बात उन्हें पसंद नहीं आती तो फौरन उन पर पंच अजमाने लगते हैं। उन्होंने अपने समर्थकों से कहा कि वे उन पर पं¨चग होते देखकर विचलित न हों। सार्वजनिक तौर पर उन्हें लेकर कही गई बात पर वक्तव्य न जारी करें। यह स्थिति 2022 तक बनी रहनी चाहिए।

कांग्रेस में अंतर्कलह नहीं हो रहा कम

प्रदेश में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं। बावजूद इसके कांग्रेस के भीतर अंतर्कलह कम होने का नाम नहीं ले रहा है। इस समय कांग्रेस के ही कई नेता पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव व पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के बयानों को लेकर उन पर ही टिप्पणी करने से नहीं चूक रहे हैं। उधर, हरीश रावत के समर्थक भी इसका जवाब दे रहे हैं। ऐसे में पूर्व मुख्यमंत्री ने अपने समर्थकों से 2022 तक के विधानसभा चुनाव तक स्वयं पर नियंत्रण रखने की अपील की है। इंटरनेट मीडिया में पूर्व मुख्यमंत्री ने अपनी भावनाएं व्यक्त करते हुए कहा कि राजनीति में यदि हम अमृतपान के लिए उत्सुक रहते हैं तो विषपान भी हमें करना चाहिए। कुछ लोग उनकी बहुत प्रशंसा कर रहे हैं। कुछ लोग उनमें अवगुण देख रहे हैं, तो आलोचना भी कर रहे हैं। आलोचना करना सबका अधिकार है और वह इसका सम्मान करते हैं। रावत ने कहा कि वह उन लोगों से प्रार्थना कर रहे हैं, जिन्हें इससे कष्ट हो रहा है। उन्हें इस कष्ट को सहर्ष उठाना चाहिए और मामले को सार्वजनिक विवाद का विषय नहीं बनाना चाहिए।