पूर्व सीएम से मिलने कई होटल व रेस्टोरेंट्स के ओनर्स ने की मुलाकात

देहरादून,

पूर्व सीएम व कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव हरीश रावत ने थर्सडे को अपने निवास पर सरकार के फैसले के विरोध में सांकेतिक उपवास रखा। मसूरी रोड स्थित अपने आवास पर सुबह 11 से 12 बजे तक रखे उपवास के बाद नैनीताल, देहरादून, हरिद्वार सहित तमाम क्षेत्रों के होटल व रेस्टोरेंट कारोबारियों ने उनसे मुलाकात की। कोरोना संक्रमण के कारण उनके व्यवसाय पर आई समस्या के बारे में जानकारी दी। बदले में पूर्व सीएम ने कहा कि सरकार का स्टेट की आर्थिक गतिविधियों का मुख्य आधार टूरिज्म है। जबकि सरकार न्यू ईयर सेलिब्रेशन पर रोक लगा रही है। वहीं दूसरी तरफ बीजेपी की रैलियों को परमिशन दी जा रही है। कहा, कोरोना से टूरिज्म चौपट है। ऐसे में मैं सांता के आह्वान पर उपवास पर बैठा हूं। इस दौरान होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष संदीप साहनी, शलेन्द्र कर्णवाल, एससी गिलोतरा, अमित वैश्य, मन्नू कोचर, इलियास अहमद, रामकुमार गोयल मौजूद रहे।

दून रेजीडेंस वेलफेयर सोसायटी कर रही अवेयर

क्रिसमस, न्यू ईयर व अन्य सामूहिक योजनाओं में संक्रमण से बचाव को लेकर दून रेजीडेंस वेलफेयर सोसायटी पहल करेगी। दून रेजीडेंस वेलफेयर सोसायटी के अध्यक्ष महेश भंडारी ने बताया कि जहां एक तरफ कोरोना के संक्रमण के केस कम नहीं हो रहे हैं, वहीं दूसरी ओर ब्रिटेन में कोरोना का नया स्ट्रेन सामने आने के बाद अब पब्लिक को ज्यादा सतर्क होने की जरूरत है। इसके लिए दून की सभी सोसायटीज को अलर्ट व अवेयर किया जा रहा है। स्पेशल युवाओं से ग्रुप फंक्शंस में शामिल न होने के लिए भी अवेयर किया जा रहा है। महेश भंडारी ने कहा कि लोगों को इसके लिए अवेयर किया जा रहा है। कारण, कोरोना की सेकेंड वेव खतरनाक साबित हो सकती है। ऐसे में सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क व सेनेटाइजेशन पर पहले से ज्यादा अलर्ट रहने की जरूरत है। इसके लिए दून की 60 से ज्यादा वेलफेयर सोसायटीज को सोशल मीडिया के जरिए अवेयर किया जा रहा है।