अहमदाबाद (पीटीआई)। गुजरात में विजय रुपानी की अगुआई वाली बीजेपी सरकार ने बिजली बिल माफ करने का एेलान किया है। एेसे में अब ग्रामीण इलाकाें में 6 लाख से अधिक लोगों को वन टाइम सेटलमेंट स्कीम के तहत 625 करोड़ रुपये का बिजली बिल में छूट होगा। गुजरात के ऊर्जा मंत्री सौरभ पटेल ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि बिजली बिलों का भुगतान नहीं करने की वजह से ग्रामीण क्षेत्रों में 6.20 लाख से अधिक लोगों के कनेक्शन काट दिए गए थे। बिजली बिल की बकाया राशि करीब 625 करोड़ रुपये है। हालांकि अब इस फैसले से काटे गए बिजली कनेक्शन और मौजूदा समय में बकाया बिल वाले कृषि, घरेलू या वाणिज्यिक सभी ग्राहकों को फायदा होगा। उन्हें सिर्फ 500 रुपये जमा करने पर बकाया बिल और सारा ब्याज माफ हो जाएगा। यह घोषणा विधानसभा उपचुनाव से पहले हुर्इ। यहां राजकोट जिले में जसदन विधानसभा सीट के 20 दिसंबर को मतदान होना है।

मध्य प्रदेश आैर छत्तीसगढ़ में माफ हुआ किसानों का कर्ज

वहीं बीजेपी से पहले कांग्रेस ने अपने राज्यों में दरियादिली दिखार्इ थी। मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनते ही वहां कर्ज माफी का एेलान किया। नए मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद ही कमलनाथ ने किसानों का दो लाख तक का कर्ज माफ करने के आदेश दे दिया। उन्हाेंने एेलान किया कि मध्य प्रदेश सरकार राष्ट्रीयकृत और सहकारी बैंकों से 2 लाख रुपये तक किसानों द्वारा उठाए गए ऋणों को छोड़ने का फैसला लेती है। इतना ही नहीं सीएम का चार्ज संभालने के बाद उन्होंने कहा कि उद्योगों के लिए नई छूट नीतियां तैयार हैं।इससे किसानाें में खुशी की लहर दाैड़ गर्इ। इसके बाद छत्तीसगढ़ में कर्ज माफी का एेलान हुआ है।  राजस्थान में भी कांग्रेस सरकार के कुछ एेेसे ही फैसले लेने की उम्मीद है। बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने चुनाव के दौरान की गर्इ सभाआें में वादा किया था कि मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनते ही 10 दिन के अंदर किसानों का कर्जा माफ कर दिया जाएगा।

सीएम बनते ही कमलनाथ ने माफ किया कर्ज बोले, यूपी-बिहार के लाेगों की वजह से एमपी के युवा बेरोजगार

Posted By: Shweta Mishra

National News inextlive from India News Desk