नागपुर (पीटीआर्इ)। भारत बनाम आॅस्ट्रेलिया के बीच पांच मैचों की वनडे सीरीज का दूसरा मैच मंगलवार को नागपुर के जामथा स्टेडियम में खेला गया। भारत ने ये मैच आठ विकेट से अपने नाम किया। भारत की इस जीत के हीरो वैसे तो विराट कोहली रहे जिन्होंने शानदार शतकीय पारी खेली। मगर अंतिम पड़ाव पर जब मैच फंस गया तब तीन भारतीय कप्तानों ने मिलकर एेसी चाल चली कि कंगारु उससे बाहर नहीं निकल पाए।

तीन कप्तानों ने मिलकर हराया आॅस्ट्रेलिया को,जानें बीच मैदान में कैसे बनाया गया था प्लाॅन

फंस गया था मैच

भारत द्वारा दिए गए 251 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी आॅस्ट्रेलिया को आखिरी आेवर में जीत के लिए 11 रन चाहिए थे। उस वक्त भारतीय टीम के सभी सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजों के आेवर पूरे हो चुके थे, एेसे में कप्तान विराट कोहली को गेंद विजय शंकर को देनी पड़ी। आखिरी आेवर फेंकने से पहले शंकर ने पूरी इनिंग में सिर्फ एक आेवर फेका था जिसमें वह 13 रन पिटवा चुके थे। एेसे में शंकर को आखिरी आेवर फिंकवाना किसी रिस्क से कम नहीं था। हालांकि शंकर ने कप्तान कोहली की उम्मीदों पर पानी नहीं फेरा आैर आखिरी आेवर में दो विकेट लेकर पूरी कंगारु टीम को 50 आेवर से पहले ही समेट दिया।

तीन कप्तानों ने मिलकर हराया आॅस्ट्रेलिया को,जानें बीच मैदान में कैसे बनाया गया था प्लाॅन

इसलिए शंकर ने फेंका आखिरी आेवर

मैच के बाद कप्तान कोहली से जब यह पूछा गया कि उन्होंने आखिरी आेवर शंकर को क्यों दिया? इसके जवाब में उन्होंने तिकड़ी कप्तानी का राज उजागर किया। कोहली ने कहा, 'मैं शंकर को 46वें आेवर में गेंद देना चाहता था। फिर मैंने रोहित आैर धोनी से बात की, उन्होंने सलाह दी अभी शमी आैर बुमराह से ही आेवर करवाते हैं अगर उन्होंने विकेट ले लिए तो मैच हमारी मुठ्ठी में होगा, आैर अंत में एेसा ही हुआ। अब आखिरी आेवर शंकर फेंकने आए जिन्होंने शानदार गेंदबाजी की।' विराट ने आगे यह भी कहा, 'रोहित हमारी टीम के उप-कप्तान हैं जबकि धोनी ने लंबे समय तक कप्तानी की है। एेसे में उनसे सलाह लेना बेहतर रहता है।'

दुनिया में किस टीम ने जीते हैं सबसे ज्यादा वनडे, भारत ने दर्ज की 500वीं जीत

Ind vs Aus : धोनी को गले लगाने मैदान में घुसा फैन, माही ने जमकर दौड़ाया

Cricket News inextlive from Cricket News Desk