- दिल्ली से इंस्टीट्यूट ऑफ अर्बन ट्रांसपोर्ट की आएगी टीम

- स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के अधिकारियों के साथ तैयार करेगी योजना

lucknow@inext.co.in

LUCKNOW: इंतजार खत्म होने वाला है, जल्द ही कैसरबाग की सड़कों की तस्वीर बदलने वाली है. यहां की सड़कों को 'स्मार्ट' बनाने की तैयारी शुरू कर दी गई है. इसी संबंध में अगले सप्ताह दिल्ली से इंस्टीट्यूट ऑफ अर्बन ट्रांसपोर्ट की टीम आ रही है. जो स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट से जुड़े अधिकारियों के साथ बैठक कर कई ंिबंदुओं पर विचार विमर्श करेगी. साथ ही सड़कों और चौराहों को स्मार्ट बनाने की कार्ययोजना भी तैयार करेगी.

50 किमी. की सड़कें

स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के लिए कैसरबाग क्षेत्र को चुना गया है. वक्त गुजरता जा रहा है, लेकिन अभी तक स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट से जुड़े अधिकांश कार्यो को शुरू ही नहीं किया जा सका है. अभी तक सिर्फ स्मार्ट बस शेल्टर का ही निर्माण शुरू हुआ है. जानकारी के अनुसार, प्रोजेक्ट के तहत कैसरबाग की सड़कों को स्मार्ट बनाया जाना है, मतलब इन्हें पूरी तरह से गड्ढामुक्त करने के साथ-साथ अन्य बिंदुओं पर भी काम कराए जाने हैं. कुल मिलाकर करीब 50 किमी की सड़कों को शामिल किया गया है. इसमें कैसरबाग के साथ-साथ शहर की कुछ अन्य सड़कें भी शामिल हैं. हालांकि इस प्रोजेक्ट में कोई भी मुख्य सड़क शामिल नहीं है.

10 चौराहों की भी बदलेगी तस्वीर

यह भी जानकारी सामने आई है कि सड़कों के साथ-साथ करीब 10 चौराहों को भी स्मार्ट बनाया जाएगा. इसके लिए भी कार्य योजना तैयार की जानी है. दिल्ली से आने वाली टीम की मदद से कार्य योजना तैयार की जाएगी.

अगले सप्ताह आने की संभावना

दिल्ली से आने वाली इंस्टीट्यूट ऑफ अर्बन ट्रांसपोर्ट की टीम के अगले सप्ताह शहर आने की संभावना है. पहले इस टीम के जनवरी के दूसरे सप्ताह में आने की संभावना थी, लेकिन किन्हीं कारणवश टीम नहीं आ सकी. अब टीम के 21 से 25 जनवरी के बीच आने की संभावना है.

वर्जन

स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत करीब 50 किमी. की सड़कें औैर 10 चौराहों को स्मार्ट बनाने की तैयारी की जा रही है. इसी संबंध में दिल्ली से इंस्टीट्यूट ऑफ अर्बन ट्रांसपोर्ट की टीम आ रही है. टीम के साथ कई बिंदुओं पर कार्य योजना तैयार की जाएगी.

एसके जैन, जीएम, स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट, लखनऊ