गांव से बदतर हो गई करेली के अपुसईनगर की हालत

मूलभूत सुविधाओं के लिए तरस रहे स्थानीय लोग

खस्ताहाल सड़कें और छतों पर दौड़ते बिजली के तारों से दर्द बन गई जिंदगी

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD:

खस्ताहाल सड़कें, घर के ऊपर से गुजरते हाईटेंशन तार और चारों तरफ फैली गंदगी.. करेली स्थित अपुसईनगर की फिलहाल यही कहानी है. स्थानीय लोगों ने नगर निगम से लेकर बिजली विभाग के कार्यालयों के चक्कर काटे, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई.

सही सालिम नहीं सड़क

वार्ड संख्या 76 से जुड़े अपुसईनगर में नौकरी पेशा के साथ छोटे-बड़े कारोबारियों के आशियाने भी हैं. यहां की सड़कें खस्ताहाल हैं. करीब एक हजार मीटर से अधिक क्षेत्रफल में फैले इलाके में एक भी सही सालिम सड़क नहीं है. लोग हादसों के शिकार हो रहे हैं.

छत पर दौड़ रही मौत

इलाके में कहीं बिजली के हाईटेंशन तो कहीं लोटेंशन तार दौड़े हैं. घर की छत से लेकर बारजे तक तारों की जद में हैं. इलाकाई लोगों के मुताबिक विद्युत पोल और लटकते तारों को लेकर विभागीय अधिकारियों से कई बार शिकायत की गई, लेकिन स्थिति जस की तस है.

पॉश इलाकों में हो रहा काम

उन एरिया में काम हो रहा है, जहां वीआईपी की संख्या ज्यादा है. स्थानीय पार्षद का कहना है कि फंड कम मिलने के कारण कई मोहल्ले में विकास कार्य नहीं हो सका. नगर निगम में सत्तर फीसदी फाइलें पेंडिंग हैं.

तार घरों से सटकर गुजरे हैं. किसी दिन बड़ा हादसा हो सकता है, जिसकी जिम्मेदारी बिजली विभाग की होगी.

मोहम्मद अनीस

रोड पूरी तरह से उखड़ चुकी है. पैदल चलना भी मुश्किल है. नालियां भी नहीं है. गंदा पानी रोड पर जमा है. नसीम अहमद

बरसात में घरों में करेंट उतर आता है. कई हादसे हो चुके है. इसकी जिम्मेदारी विभाग की है कि वह समस्याओं का निराकरण करे.

मो मियां

विद्युत विभाग जरा भी ध्यान नहीं दे रहा है. ट्रासंफार्मर रोड पर रख है. लोग घरों से बाहर निकलने में काफी डरते है. हम लोग संबंधित अधिकारियों से इसकी शिकायत भी कर चुके हैं.

पप्पु

मोहल्ला बड़ा है. यहां लोगों की संख्या भी अधिक है. बिजली विभाग के लोग लापरवाही की सारी हदें पार कर चुके है. स्थिति जस की तस बनी है.

मो असलम

जब से कालोनी बनी है, रोड खस्ताहाल है. सफाई कर्मी भी कुड़ा उठाने नहीं आते है. चारोंतरफ गंदगी का अंबार लगा है. लोगों को ऊंची नीची सड़कों पर चलना पड़ता है.

अरशद

लोगों को खुद पैसे खर्च करके व्यवस्था करनी पड़ रही है. इलाके में कूड़ाघर नहीं है, जिसकी वजह से लोगों को घर के बाहर ही कूड़ा फेंकना पड़ रहा है.

मो अख्तर

इलाके में सफाई कर्मी नहीं आते. रोड पर कचरा फैला रहता है.संबंधित विभागों को इस ओर ध्यान देना चाहिए. बरसात में दिक्कतें बढ़ जाती है.

मो अख्तर

हमारी शिकायतें सुनने वाला कोई नहीं है. रोड खराब हो चुकी है. सफाई कर्मी कुड़ा उठाने नहीं आते. समस्या बहुत है. बारिश में रोड पर चलना किसी खतरे से कम नहीं है.

एन मिर्जा

बिजली के लटकते तार हादसों को दावत दे रहे हैं. हम लोग अपने घरों से बाहर निकलने में काफी डरा महसूस करते है.

शाहजहां

बिजली संबंधित कार्य मेरे हाथ में नहीं है. क्षेत्र बढ़ा होने से कई मोहल्ले में अभी तक विकास कार्य पिछड़ा हुआ है. हालांकि एडीए, आवास विकास और डूडा के जरिए कई बड़े काम कराए गए है. खस्ताहाल गलियों और सड़कों को डेवलप किया जाएगा. शबनम बेगम पार्षद वार्ड 76