- 50 माइक्रॉन तक की पॉलीथिन की थैलियां, प्लास्टिक, थर्मोकोल के ग्लास और प्लेट नहीं कर सकेंगे यूज

- पत्तों और कागज के बने ग्लास और प्लेटों में मिलेगा खाने-पीने का सामान

बरेली. रेलवे और एजुकेशन डिपार्टमेंट के बाद अब यूपी स्टेट रोडवेज ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन ने भी बरेली रीजन के चार बस डिपो के बस स्टेशनों पर प्लास्टिक बैन कर दी है. अब सैटेलाइट और पुराना बस अड्डा पर 50 माइक्रॉन तक की पॉलीथिन की थैलियां, प्लास्टिक और थर्मोकोल के ग्लास और प्लेट का इस्तेमाल नहीं हो सकेगा. इसकी जगह इन दोनों रोडवेज बस स्टैंड पर अब खाने-पीने का सामान कागज और पत्ताें से बने दोने और ग्लास में मलेगा. रोडवेज एमडी डॉ. राज शेखरि ने सख्ती से इसका पालन कराने का आदेश दिया है. रूल्स फॉलो न करने वालों पर एक हजार रुपए का जुर्माना लगाया जाएगा. इस संबंध में दोनों डिपो के इंचार्जो को लेटर भेजा गया है.

प्लास्टिक की बोतलों में किसी भी प्रकार का पेय पदार्थ को पूरी तरह से बैन कर दिया गया है. वाटर एटीएम, आरओ वाटर मशीन, वाटर कूलर से कागज के ग्लास में पानी लेने की सुविधा मिलेगी.

कैंटीन ओनर्स को 15 तक मौका

कॉरपोरेशन ने कैंटीन ओनर्स को 15 सितंबर तक नई व्यवस्था को लागू करने का आदेश दिया है. छह दिनों का यह समय उन्हें नए आदेश के मुताबिक खुद को तैयार करने के लिए दिए गया है.

स्टेशन एरिया में लगेंगे पोस्टर

रूल्स का कड़ाई से पालन कराने के लिए आरएम से लेकर वर्कशाप में तैनात इंचार्ज तक की जिम्मेदारी फिक्स की गई है. इन पोस्टर्स के माध्यम से स्टैंड एरिया, वर्कशाप एरिया में पोस्टर और पब्लिक एड्रेस सिस्टम से जागरूक करने के साथ-साथ चेतावनी दी जाएगी.

पोस्टर से करेंगे जागरूक

रोडवेज कॉरपोरेशन के एमडी ने रूल्स का कड़ाई से पालन कराने का आदेश दिया है. इसके लिए उन्होंने टाइम लाइन भी फिक्स किया है. इसके साथ ही लोगों को जागरूक करने के लिए 30 सितंबर तक वर्कशाप, बस स्टैंड और बसों में पोस्टर और स्टिकर लगवाने का आदेश दिया गया है.

कोष में जमा होगी जुर्माना राशि

एमडी के इस आदेश का पालन बस स्टेशन, वर्कशाप और ऑफिसों में किया जाना है. रूल्स तोड़ने वाले से जुर्माना वसूलने की जिम्मेदारी सभी इकाई प्रभारी, क्षेत्रीय प्रबंधक, सेवा प्रबंधक, सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक, स्टेशन इंचार्ज को दी गई है. फाइन के पैसे को निगम के कोष में जमा कराने को कहा है.

----------------

यह भी जानें

- बरेली रीजन में चार डिपो में हैं 662 बसें

- 20 हजार पैंसेंजर्स डेली सैटेलाइट से पकड़ते हैं बस

- 15 हजार पैंसेंजर्स ओल्ड बस स्टैंड से डेली आते जाते हैं

डिपो में बसों की स्थिति

बरेली डिपो

निगम सेवा की 171 बसें

अनुबंधित सेवा की 28 बसें

रुहेलखंड

निगम सेवा की 160 बसें

अनुबंधित सेवा की 29 बसें

पीलीभीत

निगम सेवा की 92 बसें

अनुबंधित सेवा की 9 बसें

बदायूं

निगम सेवा की 126 बसें

अनुबंधित सेवा की 37 बसें

कैंटीन की स्थिति

- सैटेलाइट बस स्टैंड पर हैं आठ कैंटीन

- पुराने बस स्टैंड पर हैं तीन कैंटीन

वर्जन

परिवहन निगम के परिसर में 50 माइक्रॉन तक की पॉलीथिन थैलियों, प्लास्टिक और थर्मोकोल से बने ग्लास और प्लेट को बैन कर दिया गया है. इस संबंध में एमडी का आदेश आ गया है. जिसे डिपो इंचार्ज को भेजा दिया गया है. साथ ही कड़ाई से पालन कराने को कहा गया है.

चीनी प्रसाद, एआरएम बरेली डिपो