GORAKHPURÑ

कोरोना दिन प्रतिदिन पांव पसार रहा है। इस बीच बड़हलगंज की मीरा की जिदंगी आयुष्मान योजना के कारण बच गई। दो साल में इलाज के नाम पर घर की जमा पूंजी खत्म हो गई थी। बेटियों ने अपने गहने तक बेच दिए। नौबत घर बेचने तक आ गई थी। लेकिन सीएमओ की पहल पर आयुष्मान योजना के तहत बड़हलगंज के एक हॉस्पिटल ने महिला का ऑपरेशन नि:शुल्क कर उनकी जान बचाई है। सीएमओ आफिस से मिली जानकारी के मुताबिक, बड़हलगंज में फल का ठेला लगाने वाले मिठाई लाल की पत्‍‌नी मीरा देवी (52) का दो वर्ष पूर्व हर्निया का ऑपरेशन हुआ था। आराम न मिलने पर दोबारा ऑपरेशन हुआ। लेकिन इसके बाद परेशानियां और बढ़ गई। मिठाई लाल ने बताया कि ऑपरेशन करने वाले चिकित्सक ने कैंसर होने की आशंका व्यक्त की। इस पर कैंसर के इलाज का खर्च सुनकर बेटियों ने अपने और पत्‍‌नी के जेवर बेचकर कैंसर की दवा शुरू कराई लेकिन कुछ असर नहीं हुआ। इस बीच छह लाख रुपये से ज्यादा का खर्च हो चुका था। आयुष्मान भारत योजना के नोडल अधिकारी डॉ। नीरज कुमार पांडेय ने बताया कि योजना के लाभार्थियों को कोरोना के संक्रमण काल में भी सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं। वहीं, सीएमओ डॉ। श्रीकांत तिवारी ने कहा कि निजी अस्पतालों को कोरोना संक्रमण नियंत्रण के प्रोटोकॉल के मानकों का पालन करने पर इमरजेंसी सेवाओं की अनुमति दी जा रही है। आयुष्मान भारत योजना के लाभार्थियों की भी इमरजेंसी सुविधाएं बहाल रखी गई हैं।

Posted By: Inextlive

inext-banner
inext-banner