-बर्रा की घटना, कमरे में पड़ा मिला शव, गला रेतकर हत्या की गई

-पुलिस को हत्या में करीबी पर शक, मेन गेट से अंदर घुसा था हत्यारा

kanpur@inext.co.in

KANPUR : बर्रा के अंबेडकर नगर में घर में घुसकर विवाहिता की हत्या कर दी गई. पड़ोसी महिला के घर पहुंचने पर उसकी हत्या का पता चला. उसका खून से सना शव फर्श पर पड़ा था. विवाहिता जो जेवर पहने थी, वह उसके पास मिले हैं. इस आधार पर पुलिस लूट के इरादे से हत्या से इंकार कर रही है. पुलिस को आशनाई में हत्या का शक है. इंस्पेक्टर सतीश कुमार सिंह का कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट से हत्या का कारण पता चलेगा. पुलिस सभी बिंदुओं पर जांच कर रही है. जल्द ही आरोपियों का पता चल जाएगा.

पति गया था सागर, घर में अकेली थी

बर्रा अंबेडकर नगर निवासी संतोष कुशवाहा लोडर चालक है. वह पत्नी अंशू कुशवाहा (29) के साथ निजी मकान में रहता था. उसके मकान में चार साल से रेखा नाम की युवती किराये पर रहती है. रेखा दादानगर स्थित फैक्ट्री में काम करती है. बुधवार को संतोष मध्यप्रदेश गया था. मकान में अंशू और किरायेदार रेखा थी. थर्सडे सुबह रेखा फैक्ट्री चली गई थी. अंशू को दोपहर में पड़ोसी रेनू के साथ नौबस्ता निवासी रिश्तेदार के घर जाना था. दोपहर में रेनू तैयार होकर अंशू के घर पहुंची तो वहां पर अंशू का लहूलुहान शव फर्श पर पड़ा था. रेनू ने पुलिस और अंशू के पति को जानकारी दी.

भ्रमित करने के लिए सामान बिखेरा

पुलिस घर पहुंची तो वहां पर अलमारी का सामान तो अस्त व्यस्त था, लेकिन अंशू जो जेवर पहने थी, वह उसके शरीर पर ही थे. इसके अलावा घर में रखे जेवर भी पुलिस को बरामद हो गए हैं. इससे पुलिस का मानना है कि हत्यारे ने पुलिस को भ्रमित करने के लिए सामान अस्त व्यस्त किया है, ताकि पुलिस लूट के इरादे से हत्या के बिंदु पर जांच कर भ्रमित हो जाए.

किरायेदार ने देखा था आखिरी बार

अंशू को उसकी किरायेदार रेखा ने आखिरी बार देखा था. रेखा के मुताबिक वह सुबह फैक्ट्री जाने के लिए तैयार हो रही थी. तभी उसने अंशू को देखा था. अंशू उस वक्त नहाने जा रही थी. इसके बाद रेखा तैयार होकर फैक्ट्री चली गई थी.

करीबी पर शक, हाथापाई के बाद हत्या

अंशू के मकान का मेन गेट खुला था. मकान के अंदर पहले आंगन पड़ता है फिर अंशू का कमरा. अंशू का शव कमरे में मिला है. उसके शव के नीचे लक्ष्मी गणेश की टूटी मूर्ति पड़ी थी, जबकि पास में पानी की बोतल रखी थी. इससे पुलिस का मानना है कि हत्यारा अंशू को जानता था. वह मेनगेट से अंदर आया. अंशू उसके लिए पानी लेने गई थी. तभी हत्यारे ने उस पर पीछे से वार कर दिया. हाथापाई में मंदिर से लक्ष्मी गणेश की मूर्ति गिरने से टूट गई. इस बीच हत्यारे ने गला रेत कर उसकी हत्या कर दी.