चैत्र या शारदीय नवरात्रि में मां दुर्गा के नौ रूपों की अराधना होती है, इसके फलस्वरूप माता भक्तों की मनोकामनाएं पूरी करती हैं। यदि आप अपनी राशि के अनुसार माता के स्वरूप की अराधना करें तो उसका प्रभावी फल मिलेगा।

ज्योतिषाचार्य पं. राजीव शर्मा बता रहे हैं कि किस राशि के जातक को नवरात्रि में माता रानी के किस स्वरूप की पूजा करनी चाहिए ताकि उसे मनोवांछित फल प्राप्त हो सकें।   

1. मेष:- मेष राशि वाले जातक नव दुर्गा क्रम में शैलपुत्री की उपासना करें एवं प्रत्येक माह की नवमी तिथि का व्रत करें।

2. वृषभ:- यह जातक नव दुर्गा क्रम में ब्रह्मचारिणी की उपासना करें तथा प्रत्येक माह की नवमी तिथि का व्रत करें।

3. मिथुन राशि:- ऐसे जातक नव दुर्गा क्रम में चन्द्रघण्टा की उपासना के साथ प्रत्येक माह की अष्टमी तिथि का व्रत करें।

4. कर्क राशिः- ऐसे जातक नव दुर्गा क्रम में सिद्धिदात्री की उपासना के साथ प्रत्येक माह की नवमी तिथि का व्रत करें।

5. सिंह राशिः- ऐसे जातकों को कालरात्रि की उपासना के साथ अष्टमी तिथि का व्रत करना चाहिए।

6. कन्या राशिः- ऐसे जातकों को नव दुर्गा क्रम में चन्द्रघण्टा की उपासना के साथ प्रत्येक माह की नवमी तिथि का व्रत रखना चाहिए।

7. तुला राशि:- ऐसे जातक नव दुर्गा क्रम में ब्रह्मचारिणी की उपासना के साथ प्रत्येक माह की अष्टमी तिथि का व्रत रखें।

8. वृाश्चिक राशि:- ऐसे जातक नव दुर्गा क्रम में शैल पुत्री की उपासना के साथ प्रत्येक माह की अष्टमी तिथि का व्रत करें।

9. धुन राशि:- इस दिन जातकों के लिए सिद्धिदात्री की उपासना के साथ प्रत्येक माह की अष्टमी तिथि का व्रत करना चाहिए।

10. मकर राशि:- ऐसे जातकों को सिद्धिदात्री की उपासना के साथ काली की उपासना करना भी अति लाभदायक रहेगा तथा प्रत्येक माह की अष्टमी तिथि का व्रत करें।

11. कुंभ राशि:- इन जातकों को नवदुर्गा क्रम में सिद्धिदात्री एवं काली की उपासना करना लाभदायक रहेगा एवं नवमी तिथि का व्रत करना भी लाभदायक रहेगा।

12. मीन राशि:- इन जातकों को नव दुर्गा क्रम में सिद्धिदात्री की उपासना के साथ प्रत्येक माह की नवमी तिथि का व्रत करना चाहिए।

चैत्र नवरात्रि 2019: प्रथम दिन से नवमी तक मां दुर्गा को इन चीजों का लगाएं भोग, होंगे ये 9 लाभ

चैत्र नवरात्रि 2019: कलश स्थापना, व्रत विधान, पूजा, कन्या पूजन, विसर्जन की संपूर्ण विधि

 

 

Posted By: Kartikeya Tiwari

Spiritual News inextlive from Spiritual News Desk

inext-banner
inext-banner