- बिजली कनेक्शन प्रक्रिया की हर एक जानकारी उपभोक्ता को दी जाएगी

- अभी कनेक्शन स्टेटस जानने के लिए उपभोक्ता होता है परेशान

abhishekmishra@inext.co.in

LUCKNOW: अपने बिजली कनेक्शन का स्टेटस जानने के लिए उपभोक्ता को न तो सबस्टेशन के चक्कर काटने पड़ेंगे और न ही बिजली अधिकारियों के. इसकी वजह यह है कि कनेक्शन के आवेदन से लेकर कनेक्शन होने तक की सारी जानकारी उपभोक्ता के मोबाइल पर ही मैसेज के माध्यम से भेजी जाएगी, जिससे उपभोक्ता आसानी से जान सकेगा कि उसके कनेक्शन का स्टेटस क्या है.

इसलिए उठाया कदम

वर्तमान में स्थिति यह है कि अगर कोई उपभोक्ता नए बिजली कनेक्शन के लिए आवेदन करता है तो उसे यह जानकारी नहीं मिल पाती है कि उसका आवेदन किस लेवल पर है. कई दिन बीतने के बाद भी उपभोक्ता संशय की स्थिति में रहता है. इसके बाद उसे कनेक्शन स्टेटस जानने के लिए सबस्टेशन के चक्कर भी काटने पड़ते हैं, लेकिन कोई सटीक जानकारी नहीं मिल पाती है. कनेक्शन से जुड़ी सटीक जानकारी न मिलने के कारण उपभोक्ता खासे परेशान होते हैं. इस स्थिति से उपभोक्ता को बचाने के लिए ही यह कदम उठाया गया है.

हर चरण की जानकारी

उपभोक्ता को मैसेज के माध्यम से यह भी जानकारी दी जाएगी कि उसका आवेदन किस अधिकारी के पास है और कितने समय में वहां से स्वीकृत कर दिया जाएगा. इसके साथ ही यह भी जानकारी दी जाएगी कि कुल कितने दिन के अंदर उसे बिजली कनेक्शन मिल जाएगा. जिससे उपभोक्ताओं के मन में संशय की स्थिति नहीं रहेगी.

निरस्त का भी मैसेज

अगर किसी उपभोक्ता द्वारा लगाए गए डॉक्यूमेंट्स में कोई कमी मिलती है तो उसे इसकी भी जानकारी दी जाएगी. जिससे उपभोक्ता संबंधित सबस्टेशन में जाकर अपने डॉक्यूमेंट्स पूरा कर दे, जिससे उसका आवेदन की प्रक्रिया आगे बढ़ाई जाए. वहीं अगर किसी उपभोक्ता के डॉक्यूमेंट्स में बड़ी गड़बड़ी मिलती है तो तत्काल उसका आवेदन निरस्त करते हुए उपभोक्ता को मैसेज के माध्यम से इस संदर्भ में अवगत भी करा दिया जाएगा.

मीटर में भी यही कदम

वहीं अगर किसी उपभोक्ता की ओर से नया मीटर लगाने संबंधी आवेदन किया जाता है तो यही प्रक्रिया अपनाई जाएगी. उपभोक्ता को मैसेज के माध्यम से सूचित किया जाएगा कि कितने दिन में उसके घर या दुकान में नया मीटर लग जाएगा.

वर्जन

उपभोक्ताओं की सुविधा के लिए ही यह कदम उठाया जा रहा है. इस सुविधा से उपभोक्ता को कनेक्शन का स्टेटस जानने के लिए इधर-उधर नहीं भागना पड़ेगा.

संजय गोयल, एमडी, मध्यांचल डिस्कॉम